pocso act ki full form kya hai – पोक्सो एक्ट  की फुल फॉर्म क्या  है pocso full form 

pocso act ki full form kya hai – पोक्सो एक्ट की फुल फॉर्म क्या है pocso full form 




pocso act ki full form kya hai – पोक्सो की फुल फॉर्म क्या है , pocso full form, pocso act  full form  इस कानून के तहत 18 साल से काम उम्र के लड़के लड़किओं को अगर कोई सेक्सुअल असॉल्ट करता किसी नावालिग के गुप्त अंग को छूता है या अश्लील मानसिकता से अपने प्राइवेट अंग को बच्चे के साथ टच करता है ,to pocso act ke antrgat usko sja ho sakti hai

pocso act ki full form kya hai
pocso full form

अब मौजूदा सरकार ने इसमें  सुधार करके पोक्सो कानून को और ज्यादा मजबूत कर दिया है बच्चो की सुरक्षा के लिए इस में कई बदलाव किये है अब अगर कोई 12 साल से काम उम्र के लड़के या लड़की के साथ दुष्कर्म करता है तो उसको फांसी की सजा हो सकती है .

भारत में छोटे छोटे बच्चों को योन अपराधिओं से बचाने के लिए भारत सरकार ने 2012 में एक कानून पास किया था .

 

pocso  full form in hindi :- 

 P = Protection

O = of
C = Children
S = Sexual
O = Offences
Protection of Children from Sexual Offences
पोक्सो  फुल फॉर्म :-
छोटे बच्चो को योन अपराधों से सुरक्षा प्रदान करना

 

pocso act  के अंतर्गत अलग अलग प्राबधान है अपराधी को सजा देने के लिए

 

pocso act section 3– के तहत अगर को व्यक्ति छोटे बच्चों को  पेनेट्रेटिव सेक्सुअल असॉल्ट करे तो उसको कड़ी सजा का प्राबधान है

section   4 –के अंतर्गत – बच्चे के बलात्कार और छेड़खानी के लिए उम्र कैद या १० साल की सजा हो सकती है.

section  6 –के अंतर्गत  बच्चे के साथ rape के बाद गंभीर चोट पहुंचाई गयी हो तो उम्र कैद और साथ में जुरमाना लगाया जाता है .

section  7 –के अंतर्गत वो मामले आते है जिसमे बच्चों के गुप्त अंग को टच किया गया सेक्सुअल हरासमेंट किया गया हो , इसमें 5 से 7 साल की सजा होती है.

pocso act सेक्शन 11 –के अंतर्गत  बच्चे के सामने अश्लील हरकत करता है ,या उसको भी ऐसा करने को मजबूर करे .या कोई शख्स छोटे बच्चों को अभद्र वीडियो या पोर्न सामग्री दिखाता है ये सब पोस्को एक्ट के तहत अत है.तो उसको तीन साल की सजा होती है

कानून बना देने अगर अपराध कम हो जाते तो भारत में न तो कोई अपराधी होता और न हीं किसी बच्चे या महिला पर अत्याचार होता ,2012 में बनाये गए पोस्को एक्ट के अंतर्गत 4 साल में 6000 से अधिक मामले दर्ज़ किये गए ,98 % अभी कोट में pending पड़े हुए है

साबधानी :-माता पिता को अपने बच्चो का ध्यान रखना चाहिए ,किसी अनजान व्यक्ति पर ज्यादा भरोसा न करे अगर आपके कोई रिश्तेदार भी बच्चो को गोद में बिठाये या बच्चो के साथ ज्यादा मसखरी करे तो साबधान हो जाये




ये भी पढ़ें:-

7 साल का छोटा बच्चा कमाता है 21 लाख रूपये प्रतिदिन

 

Leave a Comment