nurses day in hindi -अंतराष्ट्रीय नर्सेज डे की शुरुआत कब हुयी -12 may

By | May 12, 2018





nurses day in hindi  nurses day कब कैसे और क्यों शुरू हुआ नर्सेज डे International Nurses Day in hindi ,प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष भी 12 मई को इंटरनेशनल नर्सेज डे मनाया जायेगा , पहली बार नर्सेज 1965 में मनाया गया था उस वर्ष से लेकर आज तक हर वर्ष नर्सेज को सम्मान देने के लिए इंटरनेशनल कौंसिल ऑफ़ नर्सेज की और से ये दिवस world के अधिकांश देशो में मनाया जाता है .भारत सरकार की और से इस दिन nurses को उनके प्रसंसनीय कार्य के लिए पुरस्कार के रूप में 50000 रुपए और साहसी कार्य के लिए एक मैडल तथा praise सर्टिफिकेट दिया जाता है अंतर्राष्ट्रीय नर्सेज डे की शुरआत कब कैसे और कहा हुयी ये जानने के लिए पढ़िए पूरी खबर .

 Nurses Day in hindi

International Nurses Day in hindi




International Nurses Day in hindi :-

नर्सेज डे कब कैसे और क्यों शुरू हुआ नर्सेज डे की शुरुआत का श्रेय florence नाइटइंगेल को मिलता है इन्हीके जनम दिवस पर प्रत्येक वर्ष 12 मई को इंटरनेशनल नर्सेज डे मनाया जाता है .florence नाइटइंगेल का जनम इटली में 1820 को हुआ था .उन्होंने नर्स के पेशे को सम्मान दिलाने के लिए कड़ी मेहनत की उनके जनम से पहले समाज में नर्सों को उतना सम्मान नहीं दिया जाता था फ्लोरेंस 1860 में उन्होंने सेंट थॉमस अस्पताल और नाइटिंगेल ट्रेनिंग स्कूल नर्सों की स्थापना की.

बचपन से ही उनके मन में बीमार दुखी और घायल लोगो की सेवा करने की लगन थी ,परोपकार करना उनके चरित्र में था ,16 वर्ष की आयु में उन्होंने नर्सिंग को अपने जीवन का aim बना लिया था उनका मानना था की ईश्वर की और से उनको nurse बनने के लिए प्रेरित किया जा रहा है.

 international  नर्सेज डे कैसे और क्यों शुरू हुआ :-

 





1844 को उन्होंने अपनी माता को कहा की वो नर्स बनना चाहती है लेकिन उनकी माता ने इंकार कर दिया .क्यों के उस समय वह के हस्पतालों की स्थितियां बहुत भयानक थी और नर्सों को अनैतिक माना जाता था  अपने माता-पिता से नर्स के लिए जर्मन प्रशिक्षण स्कूल कैसरवर्थ में कुछ महीने बिताने की अनुमति मिल गयी.

1854 में उन्होंने क्रेमिअ युद्ध में घायल सैनिको की देखभाल की तथा कई सैनिकों को मोत के मुँह से बचाया जिस कारन उनकी प्रसिद्धि पुरे ब्रिटेन में होने लगी .जिन सैनिकों को उन्होंने बचाया उनको वो मेरे बच्चे कह कर बुलाती थी .उनकी मेहनत साहस और लगन को देखते हुए उनके जनम दिवस को इंटरनेशनल नर्सेज डे के रूप में मनाया जाता है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *