म्यूचुअल फंड क्या है -mutual fund hindi- इसके फायदे और नुकसान

म्यूचुअल फंड क्या है -mutual fund hindi- इसके फायदे और नुकसान





mutual fund hindi me म्यूचुअल फंड क्या है  इसके जटिल शब्दों के जाल में न उलझते हुए आसान शब्दों में समझने की कोशिश करते है. हम सभी टीवी में देखते सुनते है म्युचुअल फण्ड के बारे में , इसके भारी भरकम शब्दों को सुन के हम इसे ignore कर देते है ,mutual fund hindi

mutual fund hindi  म्यूचुअल फंड क्या है

mutual fund hindi शब्दों में समझे तो  गांव के लोग आपस में कमेटी बनाकर अपना थोड़ा -थोड़ा पैसा हर महीने किसी एक वियक्ति के पास जमा करते ,वो वियक्ति उस पैसे को बैंक में या कहीं और जमा करवा के सुरक्षित रख लेता था या किसी को व्याज पर दे देता था, उस  से लाभ होता था उसको निवेशकों में बाँट दिया जाता था.




mutual  फण्ड  जहां बहुत सारे लोग अपना पैसा इकठा करते है,और mutual fund संचालक उस ( fund ) पैसे को किसी ख़ास जगह में इन्वेस्ट करता है ,कुछ वर्षो बाद जब उस फण्ड से जो लाभ होता है निवेशकों में बाँट दिया जाता है mutual fund  पेशेवर रूप से प्रबंधित होता है।म्यूच्यूअल फण्ड कंपनियां SEBI की देख रेख में काम करती है.जो की सरकार की एक शाखा है

इसे भी पढ़े

कैसे ख़रीदे अच्‍छा रिटर्न देने वाले म्‍यूचुअल फंड

म्यूचुअल फंड क्या है- इसके फायदे और नुकसान

mutual  फंड एक पेशेवर रूप से प्रबंधित निवेश स्कीम होती है , आमतौर पर एक asset प्रबंधन कंपनी द्वारा चलाया जाता है जो ज्यादा से ज्यादा लोगों को एक साथ लाता है और उनके पैसे को स्टॉक, sarkari बांड और अन्य योजनाओ में निवेश कराता है।

  इसके फायदे

म्यूच्यूअल फण्ड में अगर लम्बे समय के लिए इन्वेस्ट किया जाये तो इसमें लाभ कई गुना अधिक हो सकता है , इसमें शेयर मार्किट की तरह ज्यादा रिस्क नहीं होता क्यों के ,Professionals Researching  team-  Analyzing  के बाद  आपके पैसे को सही जगह पर इन्वेस्ट करती है.

Professional Management

इसमें आपका पैसा एक चीज में इन्वेस्ट नहीं किया जाता , जिस से मार्किट रेट up down होने पर आपको लाभ या हानि हो .म्यूच्यूअल में आपका पैसा अलग .जगह में इन्वेस्ट किया जाता है , और बहुत ही प्रोफेशनल तरीके से , वर्ल्ड की बेस्ट कम्पनीज में इन्वेस्ट किया जाता है.



इसका सबसे बड़ा लाभ ये है के इसमें छोटे से छोटा निवेशक भी इन्वेस्ट कर सकता है ,उदाहरण के लिए – कुछ लोग मिल के एक प्रॉपर्टी खरीदना चाहते है उस प्रॉपर्टी की कीमत एक करोड़ रूपये है , अगर प्रॉपर्टी की कीमत को 100 रूपये की यूनिट में बाँट दे तो 100 ,000 यूनिट बनते है , अब सभी लोग अपने हिसाब से जतनी यूनिट खरीदना चाहे खरीद सकते है , जो जितने ज्यादा यूनिट खरीदेगा उसको लाभ भी उतना ज्यादा होगा .

अब मान लो 2 साल के बाद प्रॉपर्टी की कीमत 20 % बढ़ जाये तो , जो अपने एक करोड़ इन्वेस्ट किया था वो बढ़ कर एक करोड बीस लाख रूपये हो जाते है .अब ये जो प्रॉफिट है इसको सभी यूनिट होल्डर्स को ,उनकी यूनाइट के हिसाब से आपस में बाँट दिया जाता है . अगर किसी ने 1000 इन्वेस्ट किया है तो उसकी रकम बढ़ कर 1200 हो जाएगी .

अब आपको समझ आ गयी है के म्यूच्यूअल फण्ड में क्या है और कैसे इसमें छोटे से छोटा निवेशक भी ,इन्वेस्ट कर के लाभ कमा सकता है .

 इसके नुकसान 

म्यूच्यूअल फण्ड में इन्वेस्ट करने से पहले उस कम्पनी के बारे में अच्छे से जाँच कर लेनी चाहिए ,म्यूच्यूअल फण्ड मैनेजर फण्ड का कुछ पैसा शेयर मार्किट में लगता है इस लिए मार्किट के डाउन जाने पर आपका रिस्क भी बढ़ जाता है . जब व्याज दरें बढ़ती है तो बांड की कीमत  कम हो जाती है , जब व्याज दरें घटती है तो बांड की कीमत बढ़ जाती है ये भी एक रिस्क है जिसको गहराई से समझने के बाद ही इन्वेस्ट करे .



disclaimer -इस पोस्ट में बताये गए सुझाव सिर्फ चर्चा के लिए प्रदान के गयी है ,pyaga .com आपको किसी भी तरह का इन्वेस्ट करने के लिए प्रेरित नहीं करता . आपके द्वारा लिए गए इन्वेस्टमेन्ट रिस्क आपके अपने है .हमारी साइट उसके लिए जिम्मेदार नहीं है .

Leave a Comment