kyu hota hai sar me dard -सिर में दर्द कारण और आयुर्वेदिक उपचार , नुस्खे

By | June 25, 2018




kyu hota hai sar me dard क्यों होता है सिर में दर्द –  सिरदर्द के  कारण – headache reason in hindi

kyu hota hai sar me dard -सिर में दर्द कारण और आयुर्वेदिक उपचार , नुस्खे

रिसर्च से पता चला है हर साल लाखों भारतीय doctor  के पास सर दर्द का इलाज़ करवाने जाते है ,उनमे से 90 % मरीजों के निदान से पता चलता है की वे गंभीर माईग्रेन से  पीड़ित है , सिर शरीर का मुख्य हिस्सा है टेक्निकल भाषा में समझे तो सिर हमारे शरीर का CPU है ,यही से पुरे शरीर को कण्ट्रोल किया जाता है दिमाग में लाखों करोड़ो सूक्ष्म तंत्र तंत्रिकाएं होती है , इन में से किसी एक में भी कोई रुकावट या विकार आ जाये तो व्यक्ति का सिर दर्द से फटने लगता है , सिरदर्द बहुत ही भयानक और असहनीय रोग होता है ,

kyu hota hai sar me dard

kyu hota hai sar me dard

क्या आप जानना चाहते मनुष्यों में सिर दर्द क्यों होता है ,बहुत गहन अध्यन से हमने some  कारणों का पता लगाया है जो सिर दर्द के लिए जिम्मेदार हैं , तो आईये जानते वो क्या कारन है जिनसे सिर दर्द होती है

सिर दर्द के लक्षण और पहचान :-

सिर दर्द मुख्यता पांच प्रकार की होती है ,तनाव के कारन , जुकाम ,नज़ला , या वायरल इन्फेक्शन के कारन , माइग्रेन , क्लस्टर की सिर दर्द , जुडी की दर्द

  1. तनाव के कारन में दर्द होता है ऐसा लगता है जैसे किसी ने जकड लिया है दिमाग को.
  2. जुकाम या sinus के कारन सिर दर्द की पहचान ये दर्द माथे के बिलकुल मध्य में होता है.
  3. माइग्रेन की सिर दर्द आधे सिर में होती है ज्यादातर राइट साइड में होती है.
  4. क्लस्टर की सिर दर्द एक आँख के चारो और हो सकती है .
  5. जुडी की pain सिर के पिछले हिस्से में दर्द खासतौर से उन ladies  को होती है जो अधिक चिंता करती है

kyu hota hai sar me dard क्या है कारण :- 

1. tension :-  सिरदर्द का सबसे पहला और सबसे आम कारन है टेंशन तनाव , जिंदगी इतनी ज्यादा टफ हो चुकी है ,असुरक्षा की भावना अधिक बढ़ती जा रही है jis  कारन इरिटेशन होने लगता है जो बाद में तनाव का रूप ले लेता है इसी तनाव से सिर में भयंकर दर्द होने लगता है  तनाव से होने वाले सिरदर्द को कम करने का सबसे अच्छा तरीका है अपने तंत्रिकाओं को आराम करने और कम से कम अपने तनाव के स्तर को बनाए रखने के लिए काम करना या ध्यान करना।

2. गलत भोजन –  आपकी खाने की आदतें आपके स्वास्थ्य पर एक बड़ा प्रभाव डाल सकती हैं। चिप्स, चॉकलेट और प्रसंस्कृत मीट और चीज जैसे अस्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थ खाने का चयन करना आपको headache  से पीड़ित होने वाली समानता में वृद्धि करेगा। ताजा vegetable  और फल खाने और बहुत सारे पानी पीने से सिरदर्द को रोकने में मदद मिलेगी।

3. eyesight and eye tension   – आंखों का तनाव अक्सर सिरदर्द से जुड़ा होता है। एक विस्तारित अवधि के लिए अपनी आंखों को झुकाव (या फ्लोरोसेंट रोशनी में अपनी आंखें उजागर करना) आपके सिर में नसों को प्रभावित कर सकता है और सिरदर्द को ट्रिगर कर सकता है। यदि आप computer  पर काम कर रहे हैं, तो एंटी-ग्लैयर स्क्रीन का उपयोग करने का प्रयास करें या अपने चश्मा के लिए एंटी-ग्लैयर प्रिस्क्रिप्शन के लिए अपने डॉक्टर से पूछें।



4.नींद ना आना या कम आना :- रात में 7 घंटे से कम नींद लेना सिरदर्द को ट्रिगर कर सकता है। आपके शरीर को काम करने के लिए कम से कम 7 घंटे नींद की जरूरत है।

5. बहुत ज्यादा sleep –  रात में 7 घंटे से भी कम नींद प्राप्त करने से सिरदर्द हो सकता है शरीर को आराम की जरुरत है इसका मतलब ये नहीं आप 12-12 घंटे सोये रहो ,9 घंटे से ज्यादा नींद भी सिर दर्द का कारन बनता है  11 घंटे से ज्यादा नींद आती है। एक रात में  नींद के 7-9 घंटे आदर्श है।

6. अधिक देर तक बैठे रहना :- विश्वास करना मुश्किल हो सकता है but बहुत लंबे समय तक एक ही स्थान पर बैठकर सिरदर्द हो सकता है।अगर आप ऑफिस में job करते है या अपना कोई बिज़नेस है तो आप हर एक घंटे बाद 10 मिनट के लिए खड़े हो जाएँ , सुनिश्चित करें कि आप अपनी मांसपेशियों को ढीला करने के लिए हर घंटे कम से कम 10 मिनट तक खड़े रहें और उन्हें salary  से दूर रखें। इससे सिरदर्द के  मौके को खत्म करने में help  मिलेगी।





7. दूषित environment  और धुआं  :- धुआं सिरदर्द का एक प्रमुख कारण है। हालांकि ज्यादातर लोगों के लिए यह सामान्य ज्ञान है, कुछ लोगों को यह नहीं पता कि वे लोग जो धूम्रपान नहीं करते हैं, अभी भी इससे गंभीर रूप से प्रभावित हो सकते हैं और आखिरकार दूसरे हाथ के धुएं के कारण सिरदर्द से पीड़ित हो सकते हैं।

8. ध्वनि प्रदूषण  :- किसी भी प्रकार का जोरदार शोर सिरदर्द को ट्रिगर कर सकता है। इसी प्रकार, जोर से शोर के आसपास होने से सिरदर्द से छुटकारा पाना मुश्किल हो जाएगा।

9. अतीत की बातें :- कई लोग इस बात से सहमत होंगे कि एक hangover के कारण सिरदर्द स्वयं प्रेरित है। हैंगओवर सिरदर्द से छुटकारा पाने का एकमात्र तरीका एस्पिरिन, पानी और समय है।

10. दवा साइड इफेक्ट्स :-  सिरदर्द ज्यादातर दवाओं का एक आम दुष्प्रभाव है। यदि आपको दवा की आवश्यकता है, तो साइड इफेक्ट्स के आसपास होने का कोई तरीका नहीं है।

11. तेज धुप :-
बहुत अधिक तेज धुप घूमने से भी headache  हो सकता है , जब भी आप धुप में बाहर जाएँ तो छाता लेकर जाएँ ,आँखों में काला या ब्राउन रंग का चश्मा पहने ,

12. stomach की कोई समस्या :- पेट की कोई समस्या हो तो भी सिर में दर्द होने लगता है , कबज , गैस्ट्रिक प्रॉब्लम ,अपान वायु का विसर्जन न होना .आदि .

13. blood pressure :-  अगर किसी व्यक्ति का रक्त चाप कम या अधिक है तो भी सिर में दर्द हो सकता है

,
सिर दर्द का आयुर्वेदिक नुस्खा ;-

  • सफ़ेद चन्दन
  • केसर
  • भंगरा
  • मुनक्का
  • कालीमिर्च
  • मुल्थी
  • सोंठ
  • फूलप्रियंगु

सभी ओषधियाँ 10-10 ग्राम लेकर इनको अच्छी तरह पीस कर बारीक चूरन बना लें २ ग्राम सुबह २ ग्राम शाम को पानी ke sath खाएं।

कई बार बुखार और किसी रोग के कारन भी सिर में दर्द होने लगता है सिरद दर्द के कई कारन हो सकते है , आपको ऐसे कोई लक्षण दिखाई दें तो सबसे पहले किसी विश्वसनीय क्वालिफाइड डॉक्टर जांच जरूर करवाएं , आयुर्वेद में सिर दर्द के कई उपाए बताये गए है ,ग्रीषम ऋतू में सिर दर्द की आयुर्वेदिक ओषधि अलग होती है और winter  में अलग ओषधि से upchar किया जाता है। निदान अति आवश्यक है।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *