holi dhan vridi totke -होली में करें ये 5  काम धन की कमी न रहेगी

holi dhan vridi totke -होली में करें ये 5 काम धन की कमी न रहेगी




2018 होली  holi festival  2018 वीरवार 1 मार्च से 2 मार्च शुक्रवार शाम तक

holi dhan vridi totke  .हिन्दू धर्म के हर त्यौहार में कोई गूड़ रहस्य और कोई न कोई पौराणिक कथा जुडी होती है .होली हर वर्ष फागुनी पूर्णिमा के बाद चैत कृष्ण प्रतिपदा को मनाया जाता है .इसे रंगो का त्यौहार भी कहते है , ये त्यौहार इतना ज्यादा प्रसिद है के विदेशों से भी लोग भारत में होली खेलने आते है .बसंत की तरह फागुल का महीना भी सर्दिओं के अंत का सूचक है ,इस महीने मौसम बहुत सुहाना हो जाता है ,कड़ाके की सर्दिओं से छुटकारा मिलने की ख़ुशी में इस त्यौहार को बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है .

holi dhan vridi totke 




 

फागुन के महीने में फसलें पकने को त्यार हो जाती है , इस लिए भी किसान अग्नि देव की पूजा करके बिभिन्य सामग्री अग्नि में भेंट करते है और अपने फसलों की सुरक्षा की कामना करते है .

 

होली की धार्मिक मान्यताएं —

होली की शुरआत होलिका दहन से हुयी थी ये बहुत पुराणी कथा है , हजारों वर्ष पहले भारत में एक हिरण्यकश्यप नाम का राजा राज करता था ,वो बहुत ही दुष्ट और राक्षशी प्रवृति का राजा था , उसके साम्राज्य में ईश्वर की भगति करने की मनाही थी वो सिर्फ अपनी भगति करवाना चाहता था ,

लेकिन उसका पुत्र प्रलाद विष्णु उपासक था राजा ने अपने पुत्र को कई बार समझाया लेकिन बालक  प्रलाद विष्णु की भगति करता रहा , हिरण्यकश्यप ने अपने पुत्र प्रलाद को मरवाने के लिए कई यतन किये लेकिन सफल न हो सका , एक दिन उसको याद आया के उसकी बहन होलिका को अग्नि देवता से बरदान प्राप्त था के वो अग्नि में कभी नहीं जलेगी ,

राजा ने योजना बनाई के होलिका प्रलाद को लेकर अग्नि में कूद जाएगी तो प्रलाद की मृत्यु हो जाएगी ,और उसकी बहन होलिका बच जाएगी , लेकिन जिसके ऊपर भगवन की कृपा हो उसका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता है ,जैसे ही होलिका प्रलाद को लेकर अग्नि में कूदि तो होलिका आग में जल कर राख हो गयी लेकिन प्रलाद का बाल भी बांका न हुआ , तब से ये तयोहार मनाया जा रहा है .

दवापर में भगवन कृष्ण ने पूतना बद्ध भी होली के दिन किया था इस लिए इस त्यौहार की महत्ता और बढ़ गयी ,होली को रंगो का त्यौहार भगवन कृष्ण ने बनाया था ,

होली से प्रकृति का सन्देश मिलता है  अब सर्द ऋतू समाप्त हो रही है आम के पेड़ों में मजीरियाँ फूटने लगती है .फूल खिलने लगते है , चारो तरफ हरियाली और बसंत ऋतू की सुगंध फैलने लगती है .फूलों पर भवरे और बागों में कोयल की कूक से माहौल खुश नुमा हो जाता है .

होली  holi festival कैसे मनाये —

होलिका पूजन शास्त्रों में बताई गयी विधि के अनुसार करना चाहिए ,पंचाग में जो महूरत दिया गया हो उसी समय होली पूजन करना चाहिए .एक निश्चित समय पर अग्नि प्रज्वलित कर उसमे आहुति दे जाती है ,गाओं में कई लोग गाने के सिरे में चने, की बलिओं को बाँध कर भूनते है और घर आकर इसको प्रसाद की तरह कहते है .अगले दिन लोग अपने रिश्तेदारों और पड़ोसिओं को गुलाल लगा कर ख़ुशी मनाते है .




आज कल ये त्यौहार सिर्फ हुड़दंग बन कर रह गया है ,जो की इस त्यौहार की गरिमा को ख़तम किये जा रहा ,इसके लिए हम सब जिमेदार है ,अगर आप भी होली मना रहे है तो अपनी मर्यादा न लांघे , किसी को जबरदस्ती रंग न लगाएं ,होली के बहाने अभद्रता न करें ,

होली प्रेम और भाईचारे का त्यौहार है एकता और सद्भावना का त्यौहार है , इस दिन सभी भेद भाव मन मुटाब भूल कर सबको होली की शुभ कानए देनी चाहिए .

होली में करें ये 5 काम धन की कमी न रहेगी  – holi dhan vridi totke 

1)...होली के दिन किया गया प्रयोग हजार गुना असर देता है इस लिए अगर घर में धन की कमी है तो मंदिर में बैठ कर लक्ष्य सहस्त्रनाम का पाठ करें  .होली की राख को पानी में घोल कर घर के अंदर बाहर छिड़काव करने से किया कराया .और नकारात्मक ऊर्जा ख़तम हो जाती है ,घर के चरों और छिड़काव करने से नकारात्मक ऊर्जा घर में प्रवेश नहींकरती .

.
2)...होली की रात भगवान शिव के पञ्चाक्षर बीज मन्त्र का जाप करने से धन में वृद्धि होने लगती है ,व्यापार में उन्नति होती है.

3)...होली से एक दिन पहले फिटकरी के ५-६ टुकड़े अपनी दुकान में रखे अगले दिन जब होली जलाई जा रही हो .चुप चाप उन टुकड़ों को होली की अग्नि में भेंट कर दें . व्यापार में वृदि होने लगेगी .

4)...होलीका दहन से पहले एक नारियल ले जो एकाक्षी हो ,लाल कपडे में बांध कर किसी मंदिर में रखे फिर उसके सामने माँ लक्ष्मी सूतक का पाठ करें या माँ लक्ष्मी स्तोत्र का पाठ करें फिर उस नारियल को अपनी दुकान में रखते हुए प्राथना करें, हे माँ लक्ष्मी विष्णु प्रिये मेरे घर और व्यापार स्थल में स्थायी निबास करें . इस तरह उस नारियल को अपनी दुकान के मंदिर में स्थापित कर दें .प्रति दिन उसकी धुप दीप से पूजा करें . व्यापर में चमत्कारिक लाभ होगा.

5)..व्यापर में लाभ के लिए होली की रात बारह बजे एक निम्बू लेकर चौराहे पर जाएँ उसके दो टुकड़े कर के दोनों अलग अलग दिशाओं में फेंक दें फिर अपने व्यापर वृदि की कामना करके घर बापिस आ जाएँ .

अगर कोई शत्रु आपकी दूकान को बांधने की कोशिश कर रहा हो तो .होली की अग्नि में उसका नाम लेकर ,एक मुठी चावल और ७ कोडियां होली की अग्नि में डाल दें . अपने जैसी कामना की होगी शत्रु का बही हाल होगा.

गोमती चक्र के टोटके .

अगर कोई घर में बीमार है तो ११ गोमती चक्र लेकर उस रोगी के ऊपर से 21 बार कर होली की अग्नि में डाल दें .

होली के दिन 11 गोमती चक्र हाथ में लेकर जलती हुई होलिका की 11 बार परिक्रमा करते हुए धन प्राप्ति की प्रार्थना करें..फिर गोमती चक्र को अग्नि की भेंट कर दें.

शत्रु विनाश के लिए गोमती चक्र हाथ में लेकर प्राथना करें के कोई शत्रु जीवन में बाधा न डाले ,ये कहते हुए गोमती चक्र को अग्नि में डाल दें…

आप सब को होली की शुभ कामनाएं.



Leave a Comment