क्या होता है हाई ग्रेड कैंसर : high grade cancer क्या होता है – types of cancer in hindi

By | July 4, 2018

high grade cancer hindi क्या होता है हाई ग्रेड कैंसर : high grade cancer kya hota hai -types of cancer in hindi , कैंसर कितने प्रकार के होते है कैंसर के कारण कैंसर परिभाषा  कैंसर के लक्षण और उपाय कैंसर की जानकारी कैंसर रोग

हाई ग्रेड कैंसर , कैंसर की ऐसी stage  है जिसमे कैंसर बहुत तेजी से शरीर के दूसरे अंगो में फैलने लगता है 

इसी को metastised भी कहते है .
  ये कैंसर की 4th स्टेज है 

https://www.cancer.gov  के मुताविक high grade cancer शब्द जो कोशिकाओं और ऊतकों का वर्णन करने के लिए प्रयोग किया जाता है जो एक माइक्रोस्कोप के नीचे असामान्य लगते हैं। हाई-ग्रेड कैंसर कोशिकाएं बहुत तेजी से बढ़ती हैं , और low grade cancer  कोशिकाओं की तुलना में अधिक तेज़ी से फैलती हैं।

high grade cancer hindi

high grade cancer hindi



कैंसर ग्रेड का उपयोग योजना के उपचार में मदद करने और पूर्वानुमान निर्धारित करने के लिए किया जा सकता है। हाई-ग्रेड कैंसर में आमतौर पर निम्न ग्रेड कैंसर की तुलना में एक खराब पूर्वानुमान होता है और इसे शीघ्र इलाज  की आवश्यकता हो सकती है।

high grade cancer hindi क्या होता है हाई ग्रेड कैंसर :-

cancer के हर प्रकार के बीमारी में एक से चार स्टेज होती है ,सबसे खतरनाक चौथी स्टेज होती है , इस रोग में कोशिकाओं का रूप बदल जाता है , मिक्रोस्कोप से देखने पर कोशिकाएं असमान्य और अनियंत्रित दिखाई देती हैं ,हाई ग्रेड कैंसर बहुत तेजी एक शरीर के दूसरे अंगों में फैलता है ,

इसकी तुलना में लौ ग्रेड कैंसर  एक अंग से दूसरे अंग में कम गति से फैलता है ,low grade cancer  में  कोशिकाएं मिक्रोस्कोप में समान्य दिखती हैं ,

 >> first  स्टेज में कैंसर का  ट्यूमर छोटा होता  है.

 >> second स्टेज में ये tumor बड़ा होने लगता है  .

>> थर्ड स्टेज में ये शरीर के दूसरे हिस्से में फैलना शुरू हो जाता है .

>> forth स्टेज में ये कैंसर पुरे शरीर के अंगो में बहुत तेजी से फैलता है इसी को metastised कहते है .

शरीर में कैंसर कैसे फैलता है :-

इस रोग की शुरुआत में शरीर में कैंसर की बहुत कम कोशिकाएं होती है ,या तो ये कोशिकाएं ट्यूमर का रूप ले लेती है ,या शरीर के किसी ख़ास एक जगह पर इन्फेक्शन करती है जिसे घाव भी कहा जा सकता है , फिर कुछ दिनों या कुछ महीनो बाद ये कैंसर से पीड़ित कोशिकाएं ,शरीर में रक्त प्रवाह के साथ बहने लगती है ,

शरीर में रक्त प्रवाह के साथ बहती हुयी कैंसर की कोशिकाएं लिम्फ नोड्स या रक्त वाहिकाओं की दीवारों के आस-पास के सामान्य कोशिकाओं में जाती और उन्हें भी डैमेज करती हैं ,उनकी कार्यप्रणाली को असमान्य करते हुए उन्हें भी अपने जैसा कैंसर से पीड़ित कर देती है।इस तरह ये रोग किसी एक अंग से शुरू होकर पुरे शरीर में फ़ैल जाता है

डॉक्टर के लिए परेशानी :-

धीरे धीरे यह कैंसर फेफड़ों, लिवर और दिमाग में फैलता है. इसके बाद यह ट्यूमर गर्भाशय, मूत्राशय, बड़ी आंत और ब्रेन बोन की तरफ बढ़ने लगता है .जिस कारन डॉक्टर को भी परेशानी होती है ये समझने में की ये कैंसर शुरू कहा से हुआ था .



cancer  ग्रेड वर्गीकृत कैसे होते हैं :- 

ग्रेडिंग सिस्टम कैंसर के प्रकार के आधार पर भिन्न होता है। आम तौर पर, असामान्यता की मात्रा के आधार पर ट्यूमर को 1, 2, 3, या 4 के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। ग्रेड 1 ट्यूमर में, ट्यूमर कोशिकाएं और ट्यूमर ऊतक का संगठन सामान्य के करीब दिखाई देता है। ये ट्यूमर धीरे-धीरे बढ़ते हैं और फैलते हैं।

इसके विपरीत, ग्रेड 3 और ग्रेड 4 ट्यूमर की कोशिकाएं और ऊतक सामान्य कोशिकाओं और ऊतक की तरह नहीं दिखते हैं। ग्रेड 3 और ग्रेड 4 ट्यूमर तेजी से बढ़ते हैं और निचले स्तर के साथ ट्यूमर की तुलना में तेज़ी से फैलते हैं।

अमेरिकन कैंसर सोसाइटी के मुताबिक, grade यह पता लगाने की प्रक्रिया है कि किसी व्यक्ति के शरीर में कैंसर कितना फैल रहा है और कहां-कहां फैल रहा है। इस तरह डॉक्टर एक व्यक्ति के कैंसर के चरण को निर्धारित करता है।

कैंसर कितने प्रकार के होता है :-
types of cancer :- 

  1. Bladder and Kidney Cancer
  2. Blood and Marrow Transplant
  3. Brain Cancer
  4. Breast Cancer
  5. Cervical Cancer
  6. Colorectal Cancer
  7. Esophageal Cancer
  8. Head and Neck Cancer
  9. Leukemia
  10. Liver Cancer
  11. Lung Cancer
  12. Lymphoma
  13. Myeloma
  14. Ovarian Cancer
  15. Pancreatic Cancer
  16. Pediatric Hematology/Oncology
  17. Prostate Cancer
  18. Skin Cancer
  19. Stomach (Gastric) Cancer
  20. Testicular Cancer
  21. Thyroid Cancer
  22. Uterine Cancer



कैंसर के लक्षण :-
cancer symptom :-

कैंसर की प्रारम्भिक अवस्था में रोगी को पता ही नहीं चलता की उसे कैंसर हो चूका है ,ये बहुत ख़ामोशी से शरीर के अंदर फैलने लगता ,ज्यादातर रोगिओं में सेकण्ड या थर्ड स्टेज में कैंसर के लक्षण दिखने लगते है.  कैंसर के कई लक्षण सामने आ सकते है परन्तु  एक से तीन स्टेज तक इसके लक्षणों का पता नहीं चलता ,

 

  • समान्यता त्वचा में परिवर्तन या असहनीय दर्द
  • स्तन या निप्पल के आकार में बदलाव
  • स्तन की त्वचा की बनावट में बदलाव
  • स्किन के नीचे गांठ (ये गांठ सौम्य भी हो सकती है )
  • भयानक खांसी जो ठीक नहीं होती
  • पेट की अंतरिओ में गड़वड़ी
  • पेशाव करते समय भयानक दर्द
  • भूख कम हो जाना
  • भोजन खाते समय या बाद में असुविधा
  • भोजन का निवाला निगलने में कठिनाई
  • बजन का कम हो जाना
  • पेट में दर्द रहना
  • रात को बिना कारन पसीना आना
  • शरीर की बिभिन अंगो से रक्त का स्त्राव होना
  • मूत्र के साथ रक्त आना
  • खांसी के साथ रक्त आना
  • योनि से रक्त स्त्राव
  • गुदा मार्ग से रक्त स्त्राव
  • बिना परिश्रम के शरीर थका हुआ महसूस होना

read this :- kaise hota hai cancer

ध्यान रहे ये सभी लक्षण कैंसर के मरीज को भी सकते है और सौम्य ट्यूमर या किसी और रोग के कारन भी हो सकते है ,अगर किसी को ये लक्षण हो तो तुरंत डॉक्टर से निदान करवाना चाहिए ,ताकि समय रहते उपचार किया जा सके। आमतौर पर, प्रारंभिक कैंसर में दर्द  महसूस नहीं होता । यदि ये लक्षण हैं, तो डॉक्टर को दिखाने से पहले दर्द महसूस करने की प्रतीक्षा न करें।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *