इन आदतों की बजहा से लोग दुखी रहते है – आदतें जो आपको दुखी बनाती है

By | June 15, 2018





Habits that make you unhappy इन  आदतों की बजहा से लोग दुखी रहते है – Habits of Unhappy People in hindi
क्या आपको खुश होने के लिए इच्छाओं का पूर्ण होना जरुरी है ,क्या आपको happy होने के लिए सही तरीके से व्यवहार करना जरुरी है ,अगर ऐसा है तो फिर आप कभी खुश नहीं रह सकते ,खुश रहने के लिए बहुत कम चीजों की जरुरत है आईये आज देखते है कोण सी habits   किसी इंसान को दुखी बनाती है .

 Habits that make you unhappy

Habits that make you unhappy

past  और future  के बारे में सोचते रहना :-

अतीत की यादों में अपना अधिकांश समय बिताना , पुराणी और दर्दनक् यादों ,को बार बार सोचना आपके दिल और दिमाग पर आघात पहुंचा सकता है .बिस्तर पर लेटे हुए भविष्य imagination करना ,कल्पना में अपने किसी नजदीकी परिजन की मृत्यु के बारे में सोचना ऐसा हो गया तो क्या होगा जीवन कैसे चलेगा. फिर इसी बात को सोच सोच कर udas रहना कई बार लोग अपनी मानसिक कल्पनाओ के कारन डिप्रेशन में चले जाते है .

ज्यादातर लोग इस लिए दुखी रहते है क्यों कि वो अपना ज्यादा समय भविष्य में बिता देते है ,अगर नौकरी चली गयी ,अगर बिज़नेस में घाटा पड़ गया ,अगर अच्छे marks न आए तो ,अगर मैं कामयाब न हुआ तो ,यदि आप खुश रहना चाहते हैं तो ऐसी बातें सोचना अच्छा नहीं है.

इस आदत को कैसे दूर करें :-

ठीक है अपने भविष्य की चिंता करनी चाहिए लेकिन आपके सोचने में नकारत्मक भाव आ रहे है तो आप को वर्तमान में लोट आना चाहिए .अतीत या भविष्य के बारे में सोचना  impossible  है, life एक किताब की तरह है past time उस किताब के वो पन्ने है जो आपने पढ़ लिए और भविष्य वो पन्ने है जिनको अभी पढ़ना बाकि है .हर दिन हर पल  जिंदगी की किताब का एक नया page खुलता है.

आपके सामने जो पन्ना खुला है उसी पर concentrate  करो ,किताब क़े last पन्ने में क्या लिखा है इसकी चिंता करना छोड़ दो .अपना अधिकांश समय वर्तमान में बिताओ जब आप काम करते है तो अपना मन काम पर केंद्रित करो ,भोजन खाते समय भोजन पर केंद्रित रहो ,अगर कभी मन क़े बहाव क़े साथ भविष्य में चले भी जाओ तो फिर उसको रोको और लम्बी सांसे लो ध्यान को खींच कर present में लाने की कोशिश करो .




 दूसरों से अपनी तुलना न करें :-

सबसे विनाशकारी और bad habit  है अपने जीवन की तुलना दूसरे लोगो से करना ,आप धन , समृद्धि , कारों , कपडे ,जूते ,शारीरिक बनावट ,सामाजिक लोकप्रियता की तुलना कर क़े दुखी रहते है .ऐसा कर क़े आप अपने लिए negative  भाव पैदा करते है ,और अपनी नज़रों में अपने आत्मसम्मान को कम करते है

इस आदत को कैसे दूर करें :-

अपनी तुलना दूसरों के साथ करने से अच्छा है अपनी तुलना खुद से करें ,देखो आपने क्या हासिल किया है ,आपकी प्रोग्रेस रिपोर्ट क्या है ,अपने और अपने आस पास के लोगो में positive चीजें ढूंढो फिर उनको बताओ की उनमे ये अच्छे गुण है .
याद रखें, अगर आप तुलना करते रहें तो आप जीत नहीं सकते बस जानबूझकर यह महसूस करना सहायक हो सकता है

” कोई फर्क नहीं पड़ता “. वो क्या है और मैं क्या हु ,उसके पास बड़ी car है तो क्या मैं भी तो अपनी छोटी car से खुश हु.

  जीवन जटिल हो सकता :- 

जीवन बहुत complicated  हो सकता है। यह तनाव और दुःख पैदा कर सकता है। लेकिन इनमें से अधिकतर अक्सर हमारे द्वारा बनाया जाता है। हां, दुनिया अधिक जटिल हो रही है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम नई habits नहीं बना सकते हैं जो आपके life को थोड़ा आसान बना दे .

इस आदत को कैसे दूर करें :-

mind reading  मुश्किल है  तो, इसके बजाय प्रश्न पूछें और संवाद करें। यह आपको अनावश्यक संघर्ष, गलतफहमी, नकारात्मकता और अपशिष्ट या समय और ऊर्जा को कम करने में मदद करेगा. अपने घर को हल्का रखे ,ये आपको भी हल्का रखेगा ,वही सामान इकट्ठा करे जिसकी आपको जरुरत ,


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *