essay on narendra modi in hindi – नरेंद्र मोदी पर निबंध , नरेंद्र मोदी बायोग्राफी

By | June 29, 2018




essay on narendra modi in hindi – नरेंद्र मोदी पर निबंध पुरे विश्व में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जिसने भारत के प्रधान मंत्री श्री नरेंदर मोदी का नाम न सुना हो ,नरेंदर मोदी का व्यक्तित्व और देश के लिए कुछ करने का उनकी will power उन्हें और ज्यादा महान बनाती है उनके विषय में कुछ लिखना सूरज को दीपक दिखाने समान है .2014 में लोकसभा चुनाव में उन्होंने 282 सीटें जीत कर एक मिसाल कायम की है .

उनकी लोकप्रियता का अंदाज़ा आप इस बात से लगा सकते की ट्विटर पर उनके 30 लाख followers  है

नरेन्द्र मोदी का जीवन परिचय 

नरेंद्र मोदी पर निबंध :-

जन्म                —17 सितम्बर 1950 (आयु 67)
जनम स्थान      — वड़नगर, गुजरात, भारत
राष्ट्रीयता          — भारतीय
राजनीतिक दल  — भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी)
जीवन संगिनी   — जसोदाबेन चिमनलाल[1]
शैक्षिक            —- दिल्ली विश्वविद्यालय गुजरात विश्वविद्यालय
धर्म                —- हिन्दू

नरेंदर मोदी का बचपन :- 

नरेंदर मोदी BHARAT के पहले ऐसे प्रधान मंत्री है जिनका जनम स्वतंत्र भारत में हुआ है ,आदरणीय नरेंदर मोदी जी का बचपन का नाम नरेंद्र दामोदर दास मोदी और इनके father का नाम दामोदर दास मूलचंद modi था .इनकी माता जी का नाम हिराबेन है . shree नरेंदर मोदी जी का बचपन बहुत संघर्ष भरा रहा इनके पिता जी चाय बेचने का काम करते थे बचपन में मोदी जी भी अपने पिता की सहायता करने के लिए उनके साथ चाय बेचते थे ,

नरेंद्र मोदी बायोग्राफी :- 

Narender Modi छोटी उम्र में आरएसएस की विचारधारा से प्रभावित हुए और आठ साल की उम्र में आरएसएस ज्वाइन कर ली .उन्होंने ने ग्रेजुएशन करने के बाद घर छोड़ दिया और देश के कई धार्मिक स्थलों का भ्रमण किया ,उसके बाद 1969 में मोदी जी अहमदाबाद आ गए 1975 में आपातकाल के दौरान  अपना भेष बदल कर गुप्त मिशन में लग गए ,उन्होंने कई महत्वपूर्ण जानकरियां इक्क्ठा कर जेल में बंद नेताओं को दी .

बीजेपी ज्वाइन करना :- 

1985  में भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन करने के बाद उन्होंने पार्टी के लिए कई महत्वपूर्ण काम किये उनकी मेहनत और निष्ठुरता को देख उन्हें सचिव के पद नियुक्त किया गया .केशुभाई के खराब स्वस्थ्य के कारन 2001 में इन्हे गुजरात का मुख्यमंत्री नियुक्त किया गया , 2002 के दंगो के दौरान विरोधी पक्ष ने इनकी बहुत आलोचना की परन्तु नरेंदर मोदी की  साफ़ नियत के चलते सबकी बोलती बंद होती गयी .

गुजरात आर्थिक विकास :- 

मुख्य मंत्री के पद पर रहते हुए उन्होंने गुजरात के विकास के लिए कड़ी मेहनत की और Gujrat का विकास मॉडल विश्व भर में चर्चा का विषय है  उनकी नीतियों को आर्थिक Development  को प्रोत्साहित करने के लिए श्रेय दिया गया।

ऐसे बना गुजरात विकास मॉडल :-

मुख्यमन्त्री के रूप में नरेन्द्र मोदी ने गुजरात के विकास के लिये जो महत्वपूर्ण योजनाएँ शुरू कीं जिनका संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है-

  1. पंचामृत योजना – राज्य के एकीकृत विकास की पंचायामी योजना,
  2. चिरंजीवी योजना – नवजात शिशु की मृत्युदर में कमी लाने के लिए
  3. कर्मयोगी अभियान – सरकारी कर्मचारियों में अपने कर्तव्य के प्रति निष्ठा जगाने के लिए
  4. कन्या कलावाणी योजना – महिला साक्षरता व शिक्षा के प्रति जागरुकता,
  5. बालभोग योजना – निर्धन छात्रों को विद्यालय में दोपहर का भोजन,
  6. मोदी का वनबन्धु विकास कार्यक्रम
  7. ज्योतिग्राम योजना – प्रत्येक गाँव में बिजली पहुँचाने के लिए
  8. सुजलाम् सुफलाम् – राज्य में जलस्रोतों का उचित व समेकित उपयोग,
  9. कृषि महोत्सव – उपजाऊ भूमि के लिये शोध प्रयोगशालाएँ
  10. मातृ-वन्दना – जच्चा-बच्चा के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए
  11. बेटी बचाओ – भ्रूण-हत्या व लिंगानुपात पर अंकुश के लिए




आदिवासी व वनवासी क्षेत्र के विकास हेतु गुजरात राज्य में वनबन्धु विकास के लिए एक दस सूत्री कार्यक्रम भी चलाया जो प्रकार है

  1. पाँच लाख परिवारों को रोजगार,
  2. उच्चतर शिक्षा की गुणवत्ता,
  3. आर्थिक विकास,
  4. स्वास्थ्य,
  5. आवास,
  6. साफ स्वच्छ पेय जल,
  7. सिंचाई,
  8. समग्र विद्युतीकरण,
  9. प्रत्येक मौसम में सड़क मार्ग की उपलब्धता
  10. शहरी विकास।

मोदी एक राजनेता :-

उनके व्यक्तित्व और आकर्षण ने उन्हें 2014  में लोकसभा चुनाम में ऐतिहासिक जीत दिलवाई , उन्होंने 2014 में उत्तर प्रदेश की नगरी वाराणसी और अपने राज्य गुजरात से चुनाव लड़ा और dono क्षेत्रों से जीत हांसिल की और नरेंद्र मोदी भारत के 15 वे प्रधान मंत्री बने .

गुजरात के मुख्यमन्त्री :- 

उन्होंने 2001 सी 2014  तक गुजरात के मुख्य मंत्री के रूप में अपनी सेवा दी और पद की गरिमा को बढ़ाया .हालाँकि पार्टी के भीतर इस बात को लेकर चर्चा थी की अभी नरेंद्र मोदी अनुभव की कमी के कारन गुजरात मुख्य मंत्री पद के लिए उपयुक्त नहीं है , फिर भी 3 अक्टूबर 2001 को यह केशुभाई पटेल के जगह गुजरात के मुख्यमंत्री बने। इसके इलावा उन पर दिसम्बर 2002 में होने वाले चुनाव की पूरी जिम्मेदारी भी थी .

आंतकवाद पर मोदी का कड़ा प्रहार :-

उनका कहना है आंतकवाद युद्ध से भी बदतर है ,भारत में किसी देश से युद्ध से ज्यादा लोगों की मृत्यु आंतकवादी हमलों में हुयी है ,आज उनकी कार्य शैली का नतीजा है जो घाटी में antkwad अपने समूल नाश की और अग्रसर है ,2014 के बाद सैंकड़ो आंतकवादिओं को जहनुम में पहुंचा दिया गया ,

नरेंद्र मोदी एक योग गुरु :-

21 JUNE को विश्व योग दिवस के रूप में मनाया जाता है इसका पूरा श्रये श्री NARENDER MODI को जाता है ,उन्होंने यूएन में इसका प्रस्ताव रखा जिसे तीन महीने में पास कर दिया गया ,मोदी जी दिन की शुरुआत योग अभ्यास से करते है ,इसी लिए उनके मुख पर तेज और अलौकिक आभा दिखती है , दिव्य पुरुष की तरह उनका तेज दिन प्रति दिन बढ़ता जा रहा है।




नरेंद्र मोदी सम्पूर्ण विश्व के नेता :-

नरेंद्र मोदी की एक खासियत है या तो लोग इनके मित्र बन जाते है ,या इनका विरोध करते है , और जो इनका विरोध करते है उनकी मति भ्रमित हो जाती है ,आज पूरी दुनिया के बड़े बड़े leader  मोदी को अपना मित्र कहने में गर्व महसूस करते है। अगर मोदी 2019 का चुनाव जीत जाते है तो ये कहना गलत नहीं होगा की वो विश्व शांति के नेता भी बन सकते है।

नरेंद्र मोदी एक अध्यातिक संत :-

इस बात को बहुत कम लोग जानते है की नरेंद्र मोदी एक संत भी है ,उनकी नज़र में ऊंच – नीच ,जात -पात हिन्दू मुस्लिम सब एक समान है , इसी लिए उनका नारा है , सबका साथ सबका विकास ,वे साथ लेकर चलते है , लेकिन कुप्रवृति के लोग उनका विरोध करते है ,

आप Narender मोदी के चेहरे की मंद मंद मुस्कान देख कर समझ सकते है ,उनकी आत्मा कितनी प्रकाशित है ,उनका आभा ( )मंडल कितना विशाल है , वो जिस कार्य को करने का निश्चय करते है उसको पूरा करके ही छोड़ते है ,नरेंद्र मोदी का पूरा जीवन कुंदन की तरह है ,जैसे सोने को आग पर जितना तपाया जाता है वो उतना ही निखरता है उसी तरह नरेंद्र मोदी का वियक्तित्व है जितनी ज्यादा मुश्किलें और रुकावटें उनके जीवन में आती है ,इन सब को पार पा के वो और ज्यादा ऊर्जा वान हो जाते है



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *