epidermis layers in hindi – epidermis ke 5 layers in hindi : एपिडर्मिस लेयर

By | July 2, 2018




epidermis layers in hindi ,एपिडर्मिस लेयर कितनी होती है , epidermis ke 5 layers in hindi ,मानव शरीर के स्किन की सबसे बाहरी परत को एपिडर्मिस कहते है , आज हम त्वचा की सबसे बाहरी परत के बारे में जानेगें जिसका नाम आप जानते है की एपिडर्मिस है , एपिडर्मिस की भी पांच परते होती है जिन्हे epidermis five layer  कहते है ,

त्वचा की परतों की पहचान :- 

आपने हमारी पिछली पोस्ट में त्वचा की कितनी layer  होती है पढ़ा ,आज आप त्वहचा की सबसे बहरी लेयर एपिडर्मिस के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करोगे,एक फिर से समझते है त्वचा की तीन लेयर होती है एपिडर्मिस , dermis और  subcutaneous

त्वचा की बाहरी परत को epidermis कहते है ye शरीर के अंदरूनी भागों को जलरोधक सुरक्षा प्रदान करती है और infection के लिए barrier के रूप में कार्य करती है।

त्वचा की middle  परत, skin में रक्त वाहिकाओं, nerves और ग्रंथियां होती हैं जो हमारी त्वचा के कार्य के लिए महत्वपूर्ण होती हैं।

त्वचा की आंतरिक परत, subcutaneous में वसा होता है जो हमें आघात से बचाता है।

five layer  of epidermis एपिडर्मिस की पांच परते  :-

  1. Stratum corneum
  2. Stratum lucidum.
  3. Stratum granulosum
  4. Stratum spinosum.
  5. .Stratum basale.

 


Stratum corneum :-

Stratum basale. त्वचा की सबसे बाहरी परत है, इसमें मृत त्वचा कोशिकाएं होती  हैं। यह पर्यावरण और त्वचा की भीतरी परतों के बीच एक कठिन barrier प्रदान करके इसके नीचे जीवित कोशिकाओं की रक्षा करती है। जिससे धूल मिटटी ,पानी ,केमिकल ,और हानिकारक bacteria skin ke  भीतर प्रवेश नहीं कर पाते .

त्वचा के भीतर नमी बनाये रखने का कार्य यही परत करती है

Stratum basale मृत केराटिनोसाइट्स की 10 से 25 शुक्ष्म परतों से बना होता है। स्ट्रैटम कॉर्नियम लगातार शेडिंग,करता है जिसका अर्थ है ,आपकी सबसे बाहरी परत हर 28 से 30 दिनों में निकल जाती  है जबकि वही प्रक्रिया वृद्ध वयस्कों में 45 से 50 दिन लगती हैऔर उसकी जगह स्वस्थ Stratum basale आ जाती है  लेकिन किसी भी मनुष्य को इसका आभास नहीं होता .


Stratum lucidum :-

एपिडर्मिस परतों की 2nd लेयर Stratum lucidum है यह त्वचा की मृत कोशिकाओं की एक परत से बना होता है ,इसे त्वचा की दानेदार और खुरदरी परत के रूप में जाना जाता है ,सींग बाली परत भी कहते है ,Stratum lucidum दो अन्य परतो Stratum granulosum. और Stratum corneum. के बीच में पाया जाता है

Stratum lucidum त्वचा को फैलाने की क्षमता के लिए ज़िम्मेदार है। इसमें एक प्रोटीन भी होता है जो त्वचा कोशिकाओं के अपघटन के लिए जिम्मेदार होता है। परन्तु ये अपघटन हाथों और पैरों की सुरक्षा प्रदान करने के लिए होता है इस अपघटन से skin मोती हो जाती है यह मोटी layer त्वचा में घर्षण के प्रभाव को कम करती है,

खासतौर से पैरों के तल और हाथों के हथेलियों  में। यह लेयर निचे की परतों के लिए waterproof  का काम करता है इस लिए इसे त्वचा की बाधा परत के रूप में जाना जाता है।





Stratum granulosum :-

यह परत हमारी त्वचा की सबसे important  परतों में से एक है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसमें एपिडर्मिस की एकमात्र कोशिकाएं होती हैं जो कि मिटोसिस की प्रक्रिया के माध्यम से विभाजित हो सकती हैं, जिसका अर्थ है कि skin की cell यहां अंकुरित होती हैं, इसलिए शब्द जर्मिनैटिवम होता है।यह वह परत है जहां केराटिन उत्पादन का हिस्सा होता है। केरातिन एक प्रोटीन है जो त्वचा का मुख्य घटक है।


Stratum spinosum :-

यह परत त्वचा की मजबूती के साथ साथ लचीलापन प्रदान करता है,


Stratum basale :-

स्ट्रैटम बेसेल एपिडर्मिस की पांच परतों, में से सबसे नीचे की परत है परत है। स्ट्रैटम बेसेल कॉलमर या क्यूबोइडल कोशिकाओं की एक परत है। और इसमें बेसल कोशिकाओं नामक छोटी गोल cell होती हैं। बेसल कोशिकाएं लगातार विभाजित होती हैं,और और नई कोशिकाएं लगातार पुराने कोशिकाओं को त्वचा की सतह की तरफ धक्का देती हैं, प्रक्रिया लगातार चलती रहती है



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *