यहाँ से जाता है कंप्यूटर में वायरस  – computer me virus kaise ata hai

यहाँ से जाता है कंप्यूटर में वायरस – computer me virus kaise ata hai




यहाँ से एंटर करता है  कंप्यूटर में वायरस mobile कम्पुटर मे वायरस कैसे आता है – computer me virus kaise ata hai वायरस चाहे शरीर में एंटर करे या कंप्यूटर में इसका काम सिस्टम को डैमेज करना है और ये अपने काम को बहुत गुप्त तरीके से करता है 99 % लोगो को पता ही नहीं चलता उनके कंप्यूटर में वायरस है या नहीं ,कंप्यूटर डिस्प्ले पर सब कुछ normal दिखता है

computer me virus kaise ata hai
computer me virus kaise ata hai




(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});




परन्तु पीछे से ये आक्रमणकारी और चोरी करने में माहिर आपकी निजी जानकारियां चुरा कर किसी और को सप्लाई करता रहता ,कंप्यूटर में वायरस दो तरीको से एंटर करता है एक ऑफलाइन दूसरा ऑनलाइन ,

read this :- computer ki speed kaise badaye

कंप्यूटर में ऑफलाइन वायरस कैसे आता है :-

आपने नोटिस किया होगा जब आप अपने कम्प्यूटर में कोई ओरिजिनल सॉफ्टवेयर cd /dvd / या usb इन्सर्ट करते है तो चाहे वो विंडो सॉफ्टवेयर हो या कोई और सॉफ्टवेयर .उसकी इंस्टालेशन अपने आप शुरू हो जाती है इसका क्या कारण है ? आपके डिस्क या usb ड्राइव के अंदर एक फाइल होती है ( Auto run.inf )

ये file आपके कंप्यूटर सिस्टम को कमांड देती की इस सॉफ्टवेयर या apps को इंस्टाल करो या स्टार्ट करो ,आपका कंप्यूटर आज्ञाकारी गुलाम की तरह जो हुकुम सरकार कह के उस फाइल को install  करना शुरू कर देता है.ये auto-run.inf एक प्रकार का वायरस है .

वायरस परदे के पीछे बैठ कर आपके computer की हर एक गतिविधि को देख रहा है ,

और जब आप कोई सॉफ्टवेयर या एप्लीकेशन किसी डिस्क या usb में burn करते है तो वायरस चोरी छुपे उस डिस्क या usb में ( Auto run.inf )फाइल को भी डाल देता है ,अब ये usb/disk  भी वायरस से संक्रमित हो चुकी है जब भी आप इस usbया डिस्क को किसी दूसरे कंप्यूटर में इन्सर्ट करोगे तो उसमे भी वायरस एंटर कर जायेगा

read this :- android mobile ke liye best antivirus kon sa 

pc या लैपटॉप में online वायरस कैसे आता है :-

कंप्यूटर /लैपटॉप या मोबाइल इन सबमें वायरस को न्योता देने का काम करती है आपके द्वारा डाउनलोड की गयी फिल्मे , गाने ,वीडियो सांग्स ,और apps ,and software ,जब भी आप इंटरनेट से कोई भी सामग्री download कर रहे है तो उसके साथ viruss भी अपने आप डाउनलोड हो जाता है ,लेकिन इसका आपको पता भी नहीं चलेगा .

स्पाम ईमेल वायरस को फ़ैलाने का मुखजी जरिया है ,बहुत से हैकर और स्पैमर के पास लाखो ईमेल की लिस्ट होती है ,वो क्या करते है उस ईमेल में एक वायरस का लिंक डाल कर आपको भेज देते है और कहते है इस फिल्म को डाउनलोड करो या इस सॉफ्टवेयर को डाउन लोड करो जैसे ही आप उस लिंक पर click करते है आपके कंप्यूटर या मोबाइल me वायरस एंटर हो जाता है.

 

ज्यादातर वायरस ,वीडियोस और पोर्न साइट्स से आपके कंप्यूटर में enter होता है ,रीज़न वहाँ पर bad लिंक होते है जो आपके कंप्यूटर में पॉपअप शो करते है (अगर आप इस वीडियो को देखना चाहते है तो flash player इंस्टाल करो ) जैसे ही आप फ़्लैश प्लेयर इंस्टाल करने लगते है तो कंप्यूटर में वायरस हो जाता है .




वायरस से बचने का आसान तरीका है अपने कंप्यूटर में best एंटीवायरस इंस्टाल करें और किसी अननोन websites से कोई भी सॉफ्टवेयर . मूवी , वीडियो सांग्स डाउनलोड न करें ,क्रैक सॉफ्टवेयर ,pirated सॉफ्टवेयर यूज़ न करें ,ज्यादातर क्रैक के अंदर वायरस होता है ,हमेशा ओरिजिनल सॉफ्टवेयर यूज़ करो और apps भी ऑफिसियल साइट से डाउनलोड करना चाहिए .

Leave a Comment