मानव आँखों की पूरी जानकारी , आंखे देखती कैसे हैं , रेटिना क्या है – eye layer kitni hoti hai

By | June 30, 2018




ankho ki puri jankari hindi me ,आँखों की कितनी लेयर होती है मानव आँखों की पूरी जानकारी हिंदी में ankhon me kitni layer  hoti hai ,आंखे देखती कैसे हैं  , रेटिना क्या है मिडल लेयर क्या है etc. की जानकारी प्राप्त करने के लिए पढ़ें , पांच ज्ञानेन्द्रियाँ  ,देखना सुनना ,स्वाद , स्पर्श और गंध है ,इन सब के बिना स्वस्थ शरीर की कल्पना नहीं की जा सकती ,आंखे मानव शरीर का मुख्य अंग है  बावजूद इसके कई लोगों को आंख की शारीरिक रचना, दृष्टि कैसे काम करती है, इसकी समझ नहीं

आंखे काम कैसे करती हैं :-

आंख की ठीक सामने की परत , कैमरा लेंस की तरह कार्य करती है,

मेडिकल साइंस में आँखों की तीन परतें बताई गयी है , और भी गहराई से समझे तो इसके आँखों के 5 मुख्य भाग है।

  1. cornea – कॉर्निया 
  2. iris – आईरिस 
  3. pupil – प्यूपिल 
  4. lens  –  लेंस
  5. retina – रेटिना  
 मानव आँखों की पूरी जानकारी हिंदी में

मानव आँखों की पूरी जानकारी हिंदी में

इन सब भागों को आप image  के माध्यम से बहुत आसानी से समझ सकते है .

cornea  :- ये आँख की सबसे बाहरी परत होती है , इसमें थोड़ा सा उभार होता है ,जो प्राकृतक लेंस की तरह काम करता है सबसे पहले प्रकाश इसके ऊपर पड़ता है , इसके बाद प्रकाश आँखि भीतरी लेंस से गुजरता हुआ रेटिना तक पहुँचता है , हमारी आँख जो भी दृश्य देखती है रेटिना के अंदर उसकी उलटी तस्वीर बनती है .

iris :-आईरिस एक कैमरे के शटर की तरह काम करता है आंख का रंगीन हिस्सा जो आंखों में प्रवेश होने वाली रोशनी की मात्रा को नियंत्रित करने में मदद करता है। अगर light तेज होती है तो iris प्यूपिल को बंद करता है या सिकुड़ लेता है और कम प्रकाश में आईरिस प्यूपिल को खोल देता है , आईरिस रेटिना पर प्रकाश किरणों पर केंद्रित भेजता है .



pupil :-कॉर्निया प्यूपिल के गोल छेद से गुज़रने वाली किरणों को केंद्रित करता है,। आईरिस (pupil के चारों ओर आंखों का रंगीन भाग) खुलता है और बंद हो जाता है, जिससे pupil बड़ा या छोटा हो जाता है। यह प्रकाश गुजरने की मात्रा को नियंत्रित करता है।

lens :- प्यूपिल के ठीक पीछे एक लेंस होता है ,कॉर्निया से गुजरता हुआ प्रकाश प्यूपिल के माध्यम से आँख के भीतरी लेंस पर पड़ता है , यही लेंस प्रकाश को electric आवेगों में परवर्तित कर रेटिना पर फोकस भेजता है .लेंस और कॉर्निया के बीच साफ़ स्पष्ट तरल होता है जिसे लिक्विड कहा जाता है ये लगातार  उत्पादित होता रहता है .

retina :- रेटिना आंख के पीछे अति संवेदनशील आंतरिक अस्तर होता है कॉर्निया और लेंस के माध्यम से प्रकाश रेटिना तक पहुँचता है ,रेटिना डिजिटल कैमरे के इलेक्ट्रॉनिक इमेज सेंसर की तरह काम करती है, रेटिना ऑप्टिकल इमेज को इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल में परिवर्तित करती है। उसके बाद ऑप्टिक तंत्रिका इन सिग्नल को विसुअल कोर्टेक्स में भेजता है , visual  कोर्टेक्स हमारे brain का वह part होता है जो हमारे सेन्स को नियंत्रित करता है

 मानव आँखों की पूरी जानकारी हिंदी में

आँखों की कितनी लेयर होती है

आँखों की कितनी परतें होती है layers of eyes :-

eyes की तीन परतें होती है जो इस प्रकार है

  1. outer layer – बाहरी परत
  2. middle layer
  3. inner layer  -आंतरिक परत

outer layer :- आँखों की तीन परतो में सबसे पहले आउटर लॉयर होती है । जिसे बाहरी परत कहते है इसमें ,आँखों का सफ़ेद भाग ,( sclera ) और कॉर्निया होते हैं.

middle layer :- आंख की मध्यम परत को uvea कहा जाता है। इसमें  iris, choroid, and ciliary body होते है कोरॉयड में रक्त वाहिकाओं होते हैं और आंखों में रक्त की मुख्य आपूर्ति होती है  इसमें ऐसे छोटे vessels होते हैं जो आंखों के पोषण के लिए खून को आँखों में भेजते रहते है .ciliary body सिलीरी बॉडी वह जगह है जहां साफ़ स्पष्ट liquid  होता है यही तरल आँखों के बाहरी हिस्से में नमी बनाये रखता है

inner layer :- आँख की आंतरिक परत में रेटिना होता है ,रेटिना आंख के पीछे की परत है। यह वह जगह है जहां फोटोरिसेप्टर (रोड एंड कंस ) स्थित हैं। प्रकाश pupil के माध्यम से रेटिना पर रिफ्लेक्ट होता है। इसके बाद ऑप्टिक तंत्रिकाओं से हमारे दिमाग को सिग्नल मिलता है और आँखों द्वारा दे गयी जानकारी को समझता है की ये दृश्य क्या है




आसान भाषा में समझे तो जो भी हम दृश्य देखते है उसके लिए प्रकाश की अहम भूमिका है ,प्रकाश के बिना किसी भी दृश्य को देखा नहीं जा सकता , प्रकाश आपकी आँखों के कॉर्निया ki सबसे बाहरी भाग पर पड़ता है उसके बाद iris प्रकाश को नियंत्रित करते हुए भीतरी लेंस पर भेजता है लेंस के बाद प्रकाश आँख के अंदर रेटिना में पहुँचता है retina प्रकाश को विधुत तरंगो में बदल kar  आपके दिमाग को भेज दिया जाता है फिर दिमाग निर्णय लेता है ये दृश्य कैसा है ,

आपने देखा दोस्तों जो दृष्ट हम एक second  के हजारवें हिस्से से कम समय में समझ जाते है की वो क्या है उसको करने के लिए कितने अंगो की जरुरत पड़ती है.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *