acute pancreatitis in hindi – लक्षण कारण और उपचार

By | June 16, 2018





acute Acute pancreatitis in hindi लक्षण कारण और उपचार  अग्नाश्य मे बहुत तेजी से सूजन होना शुरु हो जाए तो उसे Acute pancreatitis कह्ते है ,ये आम तोर पर कुछ दिनो के लिये हो सक्ता है परन्तु कयी बार ये रोग गम्भीर रूप भी ले लेता इसके मुख्य लक्षण पेट के उपरी भाग मे दर्द होती है ,अग्नाशयशोथ के सबसे आम कारण पित्ते कि pathri  होती है  अधिक shrab pine balo  को भी ये रोग हो सकता है ,शुरुआत मे अग्नाश्य शोध के कारण भोजन सही से पचता नही ओर रोगी कमजोर होने लग्ता है.

acute pancreatitis in hindi

acute pancreatitis in hindi

पैनक्रियास क्या है :-

ऊपरी पेट में एक ग्रंथि होती है ,जिसे हिंदी में अग्नाशय भी कहते है ये ग्रंथि लीवर के नीचे और पेट अमाशय के पिछले भाग में होती है इसका मुख्य कार्य भोजन पचाने के लिए जरुरी हॉर्मोन एंजाइम का निर्माण करना है , अग्नाशय कोशिकाओं में एंजाइम बनते है ,यहाँ से ये छोटी छोटी नलिकाओं से गुजरता हुआ एक बड़ी नलिका में पहुँचता है उसके बाद इस एंजाइम को छोटी आंत में छोड़ दिया कार्य भोजन को पचाना होता है


अग्नाशय कार्य करने का तरीका :-

अग्नाशय में दो तरह के हॉर्मोन त्यार होते है  एंडोक्राइन और एक्सोक्रिन

endorine  :- यहाँ ये हॉर्मोन और केमिकल का निर्माण करता है जो ब्लोड्ड शुगर को रेगुलेट करते है ,अर्थात इस फंक्शन में इन्सुलिन , glucagon , somatostatin, pancreatic polypeptide को प्रोडूस किया जाता है  इन्सुलिन खून में शर्करा की मात्रा को कण्ट्रोल करता है ,

exocrine :-यहाँ अग्नाशय के लिए जरुरी एंजाइम का निर्माण करता है। जैसे की amylase , protease   lipase ,इन तीनो एंजाइम के अलग अलग कार्य होते है ,

amylase कार्बोहैडरेट्स को पचाने का कार्य करता है , ये एंजाइम कार्बोहाइड्रेट्स को तोड़ कर ग्लूकोस में परिवर्तित करता है

protease  एंजाइम प्रोटीन को तोड़ कर एमिनो एसिड त्यार करता  है .

lipase  लीपसेस एंजाइम फैट्स को पचाने का कार्य करता है.

ये एंजाइम पतली लेयर से कवर होते है ,ये एंजाइम बहुत शक्तिशाली होते है अगर इन पर लेयर न हो तो ये अग्नाशय को भी पचा सकते है , या शोध उत्पन कर सकते है .



अग्नाशयशोथ का अर्थ है पैनक्रियाज की सूजन ,ये दो प्रकार की होती है

acute pancreatitis  – इसमें रोगी के पेट में बहुत तेज दर्द और अग्नाशयशोथ हो सकती है अटैक कुछ दिनों के लिए हो सकता है अपने आप ठीक भी हो जाता है  कोई स्थायी क्षति नहीं छोड़ता है। कभी-कभी यह गंभीर स्थिति उत्पन भी कर सकता है .

chronic pancreatitis :- अगर ये सूजन लगातार कुछ महीनो तक बनी रहे तो यह दुर्लभ और क्षति का कारण बन सकती है।

तीव्र अग्नाशयशोथ के कारण :-

गॉल्स्टोन और अधिक शराब पीना इसके मुख्य कारन हैं ,

  •  जो लोग अधिक शराब पीते है उनको इस रोग की सम्भावना ज्यादा होती है
  • पित्ते की पथरी अगर बाहर न निकले तो भी acute pancreatitis हो सकता है।
  • माता-पिता (वंशानुगत) से विरासत में प्राप्त किया जा सकता है।
  • पैनक्रिया की असामान्य संरचना।
  • रक्त में कैल्शियम का उच्च स्तर पर होना।
  • कुछ दवाओं के दुष्प्रभाव के कारन।
  • वायरल संक्रमण (उदाहरण के लिए, मम्प्स वायरस, एचआईवी)।
  • आपकी अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली पैनक्रिया शोध उत्पन कर सकती है .

 

तीव्र अग्नाशयशोथ kyu  hota hai :-

आपने ऊपर पढ़ा की एंजाइम अग्नाशय के अंदर इनएक्टिव होते है उन पर एक पतली लेयर चढ़ी होती है ,ताकि अग्नाशय को कोई नुक्सान न पहुंचा सके , कई कारणों से एंजाइम अग्नाशय के अंदर ही एक्टिवटे हो जाएँ ,या उनकी लेयर अग्नाशय के अंदर ही खुल जाये तो ये केमिकल अग्नाशय की कोशकाओं को पचाना शुरू कर देते है ,

जिस कारन अग्नाशय शोध उतपन हो जाता है। कुछ मामलो में ये बहुत गंभीर भी हो सकता है ,पैनक्रिया और आस-पास के ऊतकों के भाग मर सकते हैं। अग्नाशयी एंजाइम और रसायनों रक्त में मिल कर शरीर के अन्य अंगों को सूजन और क्षति का कारण बन सकते हैं.

इससे सदमे, श्वसन विफलता, गुर्दे की विफलता और अन्य जटिलताओं का कारण बन सकता है। यह एक बहुत गंभीर स्थिति है जो घातक हो सकती है।




तीव्र अग्नाशयशोथ के लक्षण :-

पसलिओ के ठीक नीचे बहुत तेज पेट दर्द जो पीठ तक पहुँचता है ,ये आम तोर पर कुछ घंटो के लिए भी हो सकता है और कई कई दिनों तक चल सकता है.

पेट में सूजन हो सकता है।

तेज बुखार और उलटी भी हो सकती है.

acute pancreatitis  उपचार :-

अगर इस तरह के लक्षण दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर के पास जाये और जरुरत पड़े तो हॉस्पिटल में एडमिट हो जाएँ.

डॉक्टर मरीज को स्ट्रांग दर्दनाशक इंजेक्शन देता है जिस से दर्द में रहत मिलती है.

अगर मरीज को उल्टियां हो रही है तो तरल पदार्थ निकालने के लिए को आपकी नाक में नासोगास्ट्रिक ट्यूब डाल कर पेट में पहुँचाया जाता है.

रोग के लक्षणों ठीक करने के लिए और आपके शरीर में तरल पदार्थ की पूर्ति के लिए ड्रिप भी लगाया जाता है ,जिसे समान्य भाषा में ग्लूकोस की बोतल चढ़ाना कहते है.

यदि अल्कोहल अग्नाशयशोथ का कारण है, तो आपको शराब पीना बंद कर देना चाहिए।

अंत में इसका एक मात्र उपचार ऑपरेशन द्वारा पित्ताशय की थैली को निकाल दिया जाता है.

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *