हाई ब्लडप्रेशर का इलाज high  BP  treatment –  घरेलु नुस्खे

हाई ब्लडप्रेशर का इलाज high BP treatment – घरेलु नुस्खे





जब दिल की और जाने बाला ब्लड तेज गति से दौड़ने लगता हैं, तो हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत हो जाती हैं ,ऐसा तब होता हैं जब दिल की रक्त बाहिनिओ में ब्लॉकेज हो जाये , दिल की रक्बाहिनिओं में कोलेस्ट्रॉल का थक्का जम जाने से ब्लॉकेज हो जाता हैं .जिस तरह प्लास्टिक की पानी बाली पाइप को आगे से दबाने पर पानी तेज गति से निकलने लगता हैं ,उसी तरह रक्तवाहिनो में थक्का जम जाने के कारण ,खून का परवाह दिल की और तेज हो जाता हैं ,हाई ब्लडप्रेशर का इलाज high BP treatment




अगर इसका समय पर उपचार न किया जाये तो  इसके कई गंभीर परिणाम हो सकते हैं ,ब्रेन हैमरेज ,पैरालायसिस ,हर्ट अटैक ,ये सब खतरनाक रोग BP हाई होने के कारण होते हैं  ,ज्यादा ,चर्बी बाली खाद्य सामग्री ,ड्राई फ्रूट ,का अधिक सेवन , तथा विलासिता भरा जीवन यापन ये मुख्य कारण हैं कोलेस्ट्रॉल का थक्का जमने का ,जो लोग मांस और ड्रिंक का ज्यादा उपयोग करते हैं उनको तो ये रोग होना स्वाभाविक हैं

लेकिन कुछ ऐसे भी पेशंट देखे जाते हैं जो कभी शराब और मांस को हाथ नहीं लगाते उनको भी हाई ब्लड प्रेशर की परेशानी हो जाती हैं . high BP चाहे जिस भी कारण से हुआ हो इसको कण्ट्रोल किया जा सकता हैं ,थोड़ी सबधाणी .परहेज और नियमित व्यायाम से .

बीपी का मरीज क्या खाये क्या न खाये :-

घी न खाये
नमक कम खाये
कोल्ड ड्रिंक पी सकते है यदि डाइबिटीस भी है तो कोल्ड ड्रिंक न पियें .
कोल्ड ड्रिंक से अच्छा है मरीज को फलों का जूस दिया जाये .
डॉक्टर की दी हुयी दवाई जरूर खाये .
अपनी मर्ज़ी से कोई दवाई न खाएं

 हाई ब्लडप्रेशर  के मुख्य लक्षण

शुरुआत में तो मरीज को पता नहीं लगता के उसे ये रोग लग चूका हैं ,उसको अपना सर घूमता हुआ महसूस हो सकता हैं , खून का परवाह तेज होने के कारण आंखे और मुँह लाल हो सकता हैं ,दिल की धड़कन तेज हो सकती हैं ,नींद में कमी आ जाती हैं ,कई बार मरीज बेहोश होकर गिर जाता हैं , जैसे ही आपको शक हो तो फ़ौरन अपना चैक अप करवा लेना चाहिए .डॉक्टर की बताई हुयी गोली तब तक न बंद करें जब तक आपका बप नार्मल ना आ जाये .

how to measure BP

एक सामान्य वियक्ति जिसकी उम्र 18 से 40 साल तक हैं  उसका ब्लड प्रैशर 80 — 120 तक होना चाहिए ,अगर आपकी उम्र 50 या 60 साल हैं तो अपनी उम्र को 2 से भाग कर के जो शेष बचे उसको 100 में जमा करने पर जो संख्या आये उस से ज्यादा आपका BP नहीं होना चाहिए .
example – अगर आपकी उम्र 60 साल हैं तो 2 से भाग करने पर 30 शेष रहता हैं ,30 में 100 जमा करने पर 130 आया .इस उम्र में आपका ऊपर बाला BP 130 से ज्यादा नहीं होना चाहिए अगर इस से ऊपर जाता हैं तो खतरे की घंटी हो सकता हैं .साबधान हो जाइये .



note — नमक low BP को हाई नहीं करता , लेकिन अगर आपको हाई ब्लड प्रैशर की शिकायत हैं तो नमक बिलकुल कम कर दे . ये बहुत जरुरी हैं .साबधान हो जाइये .

हाई ब्लडप्रेशर का इलाज high BP treatment – 5 घरेलु नुस्खे 

हाई ब्लड प्रैशर की शिकायत होने पर सबसे पहले किसी अच्छे डॉक्टर को चैक करवा लें ,
उसके बाद अपनी दिन चर्या में ॐ विलोम को शामिल करें प्रति दिन 30 मिनट सुबह 30 मिनट शाम को ॐ विलोम जरूर करें , प्राणायाम बिलकुल धीमी गति से करें ,

हाई ब्लडप्रेशर का नुस्खा 1… 

अर्जुन की छाल का चूरन 1/2 ग्राम सुबह 1/2 ग्राम शाम को खाने से दिल की सभी बीमारियां ठीक हो जाती हैं..आयुर्वेद में दिल की सभी बिमारिओं के लिए अर्जुन की छाल का बहुत महत्व बताया गया हैं ,दिल कक धड़कन का तेज होना घबराहट होना या दिल की वाहिनिओ का कमजोर होना सभी रोग अर्जुन छाल से ठीक हो जाते हैं .अगर आपको अर्जुन की छाल नहीं मिलती तो ..पंसारी की दुकान से अर्जुनारिष्ट लेकर उसको पानी में मिला कर पी सकते हैं .

हाई ब्लडप्रेशर का नुस्खा 2… 

भोजन को स्वादिष्ट बनाने के लिए हम लहसुन का प्रयोग करते हैं अमेरिका के विज्ञानिको की टीम के रीसर्च से ये पता चला हैं के लहसुन हृदय में जमे हुए कोलेस्ट्रॉल  कम कर देता हैं और blood प्रेस्सर कण्ट्रोल में रहता हैं .सुबह खाली पेट 2 लहसुन के टुकड़े लेकर उसको छील कर खाना चाहिए ,अगर सुबह खाली पेट न खा सके तो शाम को खली पेट जरूर खाये .

 हाई ब्लडप्रेशर का नुस्खा 3… 

अगर आपको हाई ब्लड प्रैशर हैं तो घी बाली कोई चीज न खाये ,चिकन  भी न खाये .अगर आप सोच रहे हैं के अगर ये सब न खाया तो ताक़त कैसे आएगी .तो उसके लिए आप शिलाजीत का प्रयोग कर सकते हैं शिलाजीत शरीर में फालतू चर्बी जमने नहीं देता .और आपकी सम्पूर्ण रक्त वाहिओं को साफ़ कर देता हैं . इसके प्रयोग से आपका बजन भी कम होने लग जायेगा .शरीर में ऊर्जा भी बानी रहेगी.

ये बात अलग हैं के शिलाजीत BP को कम नहीं करता लेकिन जिन कारणों से BP बढ़ जाता हैं ये उन सभी कारणों को ठीक कर देता हैं.हाई ब्लड प्रैशर बाले मरीज को शिलाजीत की कितनी मात्रा खानी चाहिए ,बाजार से जो शिलाजीत के कैप्सूल मिलते हैं ,उस कपसूल के 10 भाग कर के रोजाना एक भाग खाये और ,अगर आप बाबा रामदेव की दुकान से शिलाजीत खरीद सकते हैं तो वह आपको लिक्विड शिलाजीत भी मिल जाएगी .उसकी एक बूद रोजाना खा सकते हैं




इस आर्टिकल में सिर्फ बही उपाए बताये गए हैं जो कारगर हैं ,इनके इलावा ,आप अपने भोजन में बदलाब जरूर करें ,हर प्रकार की सब्जी , हर प्रकार का फल , और सभी प्रकार के अनाज आप खा सकते हैं .उनका कोई परहेज नहीं हैं .




घी बाली कोई चीज न खाएं , तली हुयी या अधिक तेल बाली सब्जी न खाये न,बीड़ी सिगरेट ,शराब तम्बाकू. से परहेज रखे ,नमक की मात्रा बिलकुल कम कर दें .

नोट :- डॉक्टर की सलाह के बिना कोई दवाई न खाएं

Leave a Comment