मृत्यु के बाद क्या होता है  – After Death Experience

मृत्यु के बाद क्या होता है – After Death Experience





 मृत्यु के बाद क्या होता है – After Death Experience , एक दिन सब ने मरणा है ,लेकिन दुनिया की दौड़ में सब इस बात को भूल गए है ,किसी को ये याद नहीं उसने एक दिन मर जाना है ,नेता हो या अभिनेता सब लोग सिर्फ धन दौलत इकट्ठा करने में लगे हुए है ,और जो अर्द ज्ञानी लोग है वो भी लोगो को मुर्ख बनाकर धन इकट्ठा कर रहे है , मृत्यु के बाद
.


पिछले दिनों श्री देवी की मृत्यु  खबर  न्यूज़ चैनल मे पांच दिनों तक  दिखाई गयी .मेरी पत्नी ,बहुत दुखी हो गयी थी ,श्री देवी की उम्र ही क्या है 53 ये भी कोई उम्र है दुनिया से जाने की ,दिन रत मुझे यही सवाल करती थी .कितनी बार उसे समझाया ये ये बड़े लोग है ,ये हमेशा लोगो की यादो में रहते है ये मरते नहीं , पर वो कहा मानने बाली थी ,

न्यूज़ चैनल में बताया गया श्रीदेवी की 250 करोड़ के करीब प्रॉपर्टी है , तो मेरा माथा ठनक गया जब मैंने श्री देवी को खाली हाथ जाते देखा ,बहुत दुख हुआ  काश कुछ तो अपने साथ ले जाती किस काम की इतनी दौलत ,क्यों ता-उम्र मेहनत करती रही ,मानव की ये प्रकृति है मृत्यु को भूल जाता है ,अपने दुशमन के बारे में सोचते है काश ये मर जाये लेकिन एक दिन हमने भी तो मर जाना है .

ये लोग मरने के बाद जाते कहाँ है क्या होता है मरने के बाद अक्सर लोगो को ये सवाल बहुत सताता है .न्यूयोर्क में डाक्टरों की एक टीम ने कुछ लोगो पर रिसर्च किया और जो नतीजे सामने आए वो बहुत हैरान करने वाले थे .हर किसी के अलग अनुभव कुछ लोगो ने बताया के वो मरने के बाद अपने उस कमरे की हर एक चीज को देख रहे थे , जहाँ उनकी मृत्यु हुयी , कैसे लोग रो रहे है ,लेकिन उसे कोई नहीं देख सका .

मृत्यु के बाद क्या होता है – After Death Experience

कुछ लोगो ने बताया के उन्हें बहुत तेज प्रकाश दिखाई दिया जिसमे से सुनहरी किरणे निकल रही है ,कई लोगो ने अपने अनुभव में सफ़ेद प्रकाश को देखने का दावा किया ,लेकिन एक बात  सबने मानी है मरने के बाद ऐसा महसूस होता है के जो हम पहले थे वो सब नकली है यही असली जीवन है ,उनको मरने के बाद ज्यादा खुशी और आनंद महसूस हो रहा था .

वो बापिस नहीं आना चाहते थे लेकिन उस सफ़ेद प्रकाश से आवाज़ आयी के अभी तुम्हे दुनिया में बहुत काम करने है , अभी तुम्हारा समय नहीं आया है .और झटके से उनकी आत्मा शरीर में बापिस आ जाती है .ऐसे एक नहीं लाखों लोगो को अनुभव हो चुके होंगे , जिसको ऐसा अनुभव हो जाता है फिर उसका जीवन ही बदल जाता है ,

मृत्यु के बाद

भारत के धार्मिक ग्रंथों , दन्त कथाओं में ऐसे किस्से कहानिया सुनने को मिल जाते है ,जिसमे मृत्यु के बाद की पूरी जानकारी बताई गयी है . इन बातों पर मै यकीं न करता अगर मेरे साथ ऐसा अनुभव न हुआ होता ,ये उस समय की बात है जब मै ध्यान में घंटो बैठा रहता था ,अँधेरे में, तो बहुत तेज सफ़ेद प्रकाश मेरी आँखों को चुंधिया के निकल जाता और मेरी आंखे खुल जाती ,

एक रात को ऐसे ही मै ध्यान में बैठा था तो अचानक से मेरे शरीर से आत्मा निकल कर बाहर की तरफ चल पड़ी ,जब मैंने पीछे मुड़ कर देखा तो मेरा शरीर जमीन पर लेता हुआ था , अभी कुछ ही कदम चला होगा के एक झटके से आत्मा फिर से शरीर के अंदर और मेरी आँख खुल गयी .

मृत्यु के बाद

आँख खुलने के बाद मेरे मन में एक सवाल आया , के मै कौन हु वो जो निकल कर बाहर को चल पड़ा या ये शरीर , खैर जो भी हो आनद बहुत आया था उस अनुभव से ,फिर बही हुआ जो सबके साथ होता है शादी के बाद सब ध्यान समाधी भूल के अपनी जिंदगी में मशगूल हो गया मै भी ,




मृत्यु के बाद क्या होता है अब आपके मन में भी ये सवाल तो आया होगा , आप जिस देवी देवता की उपासना करते है चाहे जीजस को मानते है राम जी की पूजा करते है ,कृष्ण को मानते है या भगवन शिव को मानते है अगर आप मुस्लिम है तो मुहमद को मानते होंगे अल्ल्हा को मानते होंगे  या सिख वाहे गुरु जी को मानते है .या निराकार को ध्याते होंगे मरने के बाद वही आपको अपनी और खींच लेता है आपको भटकने नहीं देता .मरने के बाद आपका इष्ट आपकी सहायता के लिए आ जाता है .

कुछ लोग सोच रहे है के इष्ट मरने के बाद कैसी सहायता करेगा तो उन लगो को एक ही जवाब है के आप यहाँ इस मृत्यु लोक में कितने साल तक रह सकते है 50 – 60 या 80 फिर आपको एक दिन यहाँ से चले जाना है आपकी आत्मा की उम्र कभी ख़तम नहीं होती वो कभी नहीं मरती , अगर आपने कोई इष्ट नहीं बनाया अगर आपने कभी ध्यान नहीं लगाया तो आपकी आत्मा भटकती रहेगी न तो आपको जनम मिलेगा और नहीं आपको चैन आएगा.

गरुड़ पुराण के आखरी अध्याय में बताया गया है के जो लोग ध्यान की गहराई में नहीं उतरे है उनके लिए आगे का सफर बहुत भयानक हो जाता है ,जिसकी कोई इंसान कल्पना भी नहीं कर सकता फिर उस जीव आत्मा की मुक्ति के लिए कई तरह के कर्मकांड बताये गए है गरुड़ पुराण में .

हमारे शास्त्रों में भी ध्यान की महत्ता बताई गयी है जो लोग ध्यान करते है उनको मरने के बाद नर्क में जाना नहीं पड़ता और ईश्वर का सानिध्य प्राप्त होता है.अगर आप लोग सत्य को भूल कर सिर्फ धन दौलत इकट्ठा करने में लगे हुए है तो आपको इसका अंजाम भुगतने के लिए त्यार रहना चाहिए .

Leave a Comment