भूख बढ़ाने के आयुर्वेदिक उपाए  और नुस्खे-loss of appetite

भूख बढ़ाने के आयुर्वेदिक उपाए और नुस्खे-loss of appetite





शरीर को स्वस्थ रखने के लिए कई पोषक तत्वों की जरुरत होती है ,जो हमे भोजन से मिलते है ,लेकिन विरुद्ध आहार खाने से हमारे लिवर में गर्मी बढ़ जाती है जिस कारन हमे भूख कम लगने लगती है ,गलत चीजे खाने से शरीर को स्वास्थ्य की बजाए नुक्सान होने लगता है .भूख कम लगने से शरीर में खून की कमी होने लगती है ,और आँखों के आगे अँधेरा भी छाने लगता है . कई बार बजन भी कम हो जाता है .अक्सर बच्चो में ये परेशानी ज्यादा होती है लेकिन ये शिकायत किसी भी उम्र के लोगों को हो सकती है.भूख बढ़ाने के आयुर्वेदिक

 




 

भूख कम लगने के मुख्य कारन लिवर में खराबी . या गर्मी

  • पेट में कीड़े होने से भी भूख कम लगती है
  • दिमागी परेशानी या टेंशन होने से भी भूख कम लगती है
  • पाचन क्रिया में गड़बड़ होने से भी भूख कम हो जाती है
  • टाइफाइड , या कोई गंभीर रोग होने पर भी भूख कम लगती है .
  • गर्मिओं के दिनों में अक्सर भूख कम हो जाती है .
  • पित वृदि ,हाइपर एसिडिटी के कारण भी भूख कम लगती है
  • एंटीबायोटिक्स ,या अंग्रेजी दवाईआं खाने से भी भूख कम हो जाती है ,क्यों के दवाइयां लीवर को डैमेज करती है .

अगर खाना खाते समय निवाला बाहर को आये तो समझ लो आपके पेट में कीड़े है ,अगर मुँह में कड़वा पानी आये तो आपके पित्त बड़े हुए है आपके आमाशय में गर्मी है .

सबसे पहले अपने रोग का निदान कर ले किस कारण से भूख कम लग रही है ,जिन करने से भूख कम लग रही है उन कारणों को ठीक किये बिना भूख बढ़ाने बलि दवाई खाने से कोई लाभ नहीं होता .अगर कोई रोग नहीं है तो फिर भी भूख कम लग रही है तो जो उपाए इस आर्टिकल में बताये जा रहे उनको आजमाए ,इनसे आपको खाने में रूचि होने लगती है .

अनार दाने की चटनी

गर्मिओं में भूख कम लग रही है तो अनार दाने की चटनी खाने से भोजन में रूचि होने लगती है .और खाया हुआ शीघ्र पच जाता है ,अनार दाने की चटनी बनाने के लिए की विधि इस प्रकार है , पंसारी को दुकान से 100 ग्राम अनारदाने ले आये , उनमे से 20 – 30 ग्राम रात को एक प्याला साफ़ पानी में भिगो के रख दे ,

अगले दिन ,उसमे पुदीना प्याज, हरी मिर्च ,निम्बू का रस ,नमक स्वादानुसार और धनिया डाल कर अच्छी तरह सील बट्टे या मिक्सी में पीस लें खाने के साथ एक चमच इस चटनी को खाने से भूख खुल कर लगने लगती है ,और खाया पिया जल्दी हजम हो जाता है .

भोजन के साथ अचार , खट्टी मीठी चटनी , या पापड़ खाने से भी भूख ज्यादा लगती है ,स्वाद स्वाद में रोटी ज्यादा खायी जाती है ,

मीठा -स्वादिष्ट

भूख लगाने के लिए कई प्रकार के चूर्ण भी मिलते है आप इनको घर पर भी बना सकते है मीठा -स्वादिष्ट चूर्ण घर में बनाये विधि इस प्रकार है .
धनिया
सोंफ भुनी हुयी -20 ग्राम
जीरा भुना हुआ -20 ग्राम
अनारदाना -20 ग्राम
सेंधा नमक – 10 ग्राम
निम्बू सत्व -3 ग्राम
मिश्री – 100 ग्राम
काली मिर्च – 5 दाने
इन सब को कूट कर बारीक चूर्ण बना ले किस साफ शीशी या डिब्बी में बंद कर के रख ले .
भोजन के बाद ,२-3 ग्राम मुँह में डाल लें , अगर आपको गैस की प्रॉब्लम है ,ता भजन जल्दी नहीं पचता है और भूख कम लगती है तो ये सब शिकायत आपकी दूर हो जाएगी .इसका स्वाद बहुत अच्छा होता है इसलिए बच्चे भी इसको खा सकते है .

आंबले और गाजर का का मुरब्बा

अगर लीवर में गर्मी है ,भूख में कमी आ जाये आपके लिए आंबले का मुरब्बा और गाजर का मुरब्बा ,रामबाण ओषधि है ,बाजार से गाजर का और अमले का मुरब्बा मिल जाता है ,अगर आप घर बना सकते है तो, वो सबसे बढ़िया है , इनको खाने से लीवर की खराबी ठीक हो जाती है , कोई भी मुरब्बा खाने से पहले उसको धो लेना चाहिए ताकि फालतू की चाशनी निकाल जाये .




जल जीरा या गोल गप्पे की कांजी पिने से भी भूख बढ़ जाती है.

परहेज

आयुर्वेद का एक नियम है इलाज़ से परहेज अच्छा .आपको ज्यादा प्रोटीन बाली चीजे नहीं कहानी है , खजूर , लोंग ,का प्रयोग बिलकुल न करे ,क्यों के ये पित्वर्धक होते है . .अगर आपको भूख कम लग रही है तो कुछ दिनों के लिए लहसुन और अदरक का प्रयोग बंद कर दें यां कम   ,इस सब खाद्य पदार्थो से आमाशय में गर्मी हो जाती है.

.इस पोस्ट में बताये हुए नुस्खे आयुर्वेदिक है जिनका कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं है .अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आये तो ज्यादा से जयदा शेयर करे.




[ please don’t use  translater ,becoz it can make wrong meaning of this artical ]

Leave a Comment