नमक और चीनी के हानिकारक प्रभाव

नमक और चीनी के हानिकारक प्रभाव





नमक और चीनी दो ऐसे तत्व है जिनके बिना भोजन की कल्पना नहीं की जा सकती , सब्जी में थोड़ा सा नमक कम हो जाये तो घर में उत्पात मच सकता है ,अगर चाये आपको बिना चीनी की मिले तो आपका का गुस्सा सातमें आसमान में पहुँच जायेगा ,

शायद आप जानते होंगे के चीनी जब तरल रूप में त्यार होती है , तो इसका रंग हल्का भूरा होता है ,इसको वास्तविक सफ़ेद रंग देने के लिए सल्फर की जरुरत पड़ती है ,नमक और चीनी के हानिकारक प्रभाव

सल्फर की कीमत ज्यादा होने के कारण कई शुगर मिल मालिक मरे हुए जानवरो की हड्यिओं का प्रयोग करते थे सल्फर के वैकल्पित रूप में ,चीनी को साफ़ करने के लिए कई chemicals  का प्रयोग भी किया जाता है ,अब आप समझ गए होंगे के चीनी ,आध्यात्मिक और भौतिक रूप से हमारे लिए कितनी खतरनाक है .

 

नमक के बिना भोजन के स्वाद की कल्पना नहीं की जा सकती , क्या आप जानते है नमक कैसे बनता है जो हम भोजन में खाने के लिए प्रयोग करते है जरूर आप जरूर जानते है के नमक समुन्दर के पानी से बनता है ,

समुन्दर में लाखो करोड़ो जीव मरते उनके शरीर उसी समुन्दर में गलने सड़ने के बाद रासायनिक क्रिया द्वारा समुन्दर के पानी को खारा करते है फिर ,उस खारे पानी से निकाला निकला जाता है

चीनी के हानिकारक प्रभाव 

1.. चीनी के अधिक सेवन से शरीर में कैल्शियम और फॉस्फोरस का संतुलन खराब हो सकता है ,कैल्शियम और फॉस्फोरस हड्डीओं को मजबूत बनाने में सहयोगी है .चीनी शरीर से कैल्शियम को बाहर निकाल देती है जिस कारण हड्डियां कमजोर पढ़ जाती है ,

2..चीनी को पचने के लिए बॉडी को कैल्शियम की जरुरत पड़ती है ,जिस कारण शरीर में कैल्शियम की खपत ज्यादा होने लगती है , नतीजा शरीर में कैल्शियम की कमी के कारण गंठिया , जोड़ो के दर्द ,कैंसर .इन्फेक्शन जैसे रोग शरीर पर अटैक कर देते है

3..व्हाइट शुगर का अत्यधिक सेवन करने से लिवर में ग्लाइकोजिन की मात्रा घटने लगती है ,उसका रिजल्ट ये होता है के वियक्ति थोड़ा सा काम करने के बाद थक जाता है सांस फूलने लगती है ,दिल की धड़कन तेज हो सकती है .डाइबिटीज़ .दमा जैसे गंभीर रोगो का शिकार हो सकते है.




4.. विशेषज्ञों की माने तो  सफ़ेद चीनी का अधिक प्रयोग करने से शरीर में थियामिन नमक तत्व की कमी होने लगती है ,नींद की कमी ,डिप्रेशन ,नज़रो की कमजोरी जैसे लक्षण देखने को मिलते है.

5..लंदन के मेडिकल कॉलेज के हृदये विशेषज्ञों के अनुसार हृदये के जितने भी रोग है, उनके लिए चीनी को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है ,चीनी के अधिक उपयोग से ,शेयर में मश्पेशिओं की कमजोरी ,दांतो में सड़न ,मोटापा ,आयरन की कमी ,तथा विटामिन b12 की कमी हो सकती है .

          नमक के हानिकारक प्रभाव  

1..जो लोग अधिक मात्रा में नमक का प्रयोग करते है  उनको ,brain strock का खतरा अधिक रहता है ,उत्तरी जापान में  लोग अधिक नमक का प्रयोग करते है इस लिए बहा  अधिकतर लोगो की मृत्यु भी ब्रेन स्ट्रोक से होती है ,

2..भारत में भी लोग अधिक नमक का प्रयोग करते है जिस कारण 40 की उम्र पार करते – करते कई लोगो को उच्च रकत चाप की शिकायत होने लगती है ,उच्च रकत चाप से हार्ट अटैक, पैरालाइसिस ,ब्रेन स्ट्रोक हो सकता है.

3..हार्ट प्रॉब्लम ,हाई ब्लेड प्रेशर ,अलसर ,चार्म रोग और बहुत सारे रोग सिर्फ नमक छ्चोड़ देने से अपने आप ठीक हो जाते है . नमक शरीर के पानी को बाहर निकाल देता है जिस कारण अधिक प्यास लगने लगती है .शरीर में पानी की कमी हो जाती है .

पुराने जमाने में लोग चीनी की जगह गुड़ और शक़्कर का प्रयोग करते थे .जिस कारण वे कई गंभीर बिमारिओं से बचे रहते थे .मेरा आपसे ये अनुरोध है के अपने भोजन से चीनी और नमक की मात्रा को कम कर दे और स्वस्थ रहे



Leave a Comment