नाक से खून आने का कारण – नकसीर की दवाई नकसीर के घरेलू उपाय




नकसीर के घरेलू उपाय – नाक से खून आने का कारण – नकसीर की दवाई अधिक गर्मी में कई बार नाक से खून निकलने लगता है खून इतना ज्यादा होता है देखने वाला भी घबरा जाता है , नकसीर हमेशा नाक के एक नथुने से निकलती है , 70 % पेशंट को राइट साइड से नकसीर फूटने की शिकायत होती है , कई बार ये रक्त नाक के पिछले भाग से बहता हुआ पेट में चला जाता है उस स्थिति में बमन भी हो सकता है ,परन्तु नकसीर फूटने पर रक्त यदि स्वास नली में चला जाये तो स्थिति गंभीर हो सकती है तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए .




नकसीर फूटने का कारन क्या है ;-

नाक के अंदर बहुत पतली झिल्ली दार स्किन होती है उसमे सैंकड़ों सूक्षम रक्त वाहिनियां होती है गर्मिओ के दिनों में थोड़ा रक्त परवाह तेज होने से झिल्ली फट जाती है और खून बहने लगता है इसे ही नकसीर फूटना कहते है .

रिसर्च से पता चला है जो लोग गर्मिओ में अंडे और मांस का सेवन अधिक करते है ,उनको नकसीर फूटने की परेशानी अधिक होती है ,

नकसीर के घरेलू उपाय :-

जितना जल्दी हो सके डॉक्टर से संपर्क करें .
अगर डॉक्टर समीप न हो तो आप निम्न first aid यूज़ करें

जिस व्यक्ति की नकसीर फूटी हो उसको थोड़ा सा आगे झुका कर उसके सर पर ठन्डे पानी की धार छोड़नी चाहिए , इस से नाक से खून आना तुरंत रुक जाता है .

तुलसी के पत्तों के रस की कुछ बुँदे नाक में डालने से नाक से खून आना बंद हो जाता है,  यह रक्तस्राव रोकता है , जिनको ये रोग लम्बे समय से है उनको ये  उपाय लगातार कुछ दिनों तक करना चाहिए . इसके साथ पतंजलि की आरोग्य वटी दो गोली सुबह दो गोली शाम को खाने से आराम मिलता है .




एक खाली साफ़ शीशी में 10 ग्राम तारपीन का तेल डालें उसके 10 ग्राम असली कपूर दाल कर धुप में रख दें जब दोनों एक रस हो जाये तो 2 – 2 बूंदें दोनों नथुनों में डालने बहुत जल्दी आराम मिलेगा.

नकसीर के मरीज को गूंद कतीरा का सेवन करना चाहिए , इसके लिए १० ग्राम गूंद कतीरा रात को पानी में भिगो के रख लें सुबहा  पानी निथार लें , एक गिलास ठन्डे दूध में थोड़ी सी चीनी मिलाएं उसमे भिगोया हुआ गूंद कतीरा मिलाकर सेवन करें ३० दिन लगातार सेवन करने से नकसीर के रोग में आराम मिलता है.

नकसीर के फूटने के बाद गीला सूती कपडा सर पर रखने से आराम महसूस होता है.

देसी गुलाबी  गुलाब से बना गुलुकंद भी नकसीर के रोगी के लिए लाभदायक है , एक चमच गुलुकंद का सेवन रोजाना करें जब तक रोग ठीक नहीं हो जाता , इस्तेमाल करते रहें

नकसीर का घरेलु उपाय :-

गर्मिओ में अगर नकसीर बार बार फूटने लगे तो पीपल के हरे पत्ते का रस नाक के छिद्रों में डालें ,ये उपाए 7 दिन करना है .इसके साथ शीशम के पतों को छाया में सूखा कर पीस लें उसका बारीक चूर्ण 2 ग्राम एक गिलास पानी के साथ खाएं

परहेज :-

रोगी को धुप में घूमने से बचना चाहिए गर्मी और आग के समीप न बैठे .मांसाहारी भोजन का त्याग करे , हाई प्रोटीन का प्रयोग कुछ दिनों के लिए बंद कर दें . आम लीची , ड्राई फ्रूट्स (मेवे ) न खाएं .

आहार :-

मोसम्मी का जूस रोज पियें .
संतरा ,अमला जूस ,सेब का अधिक सेवन करें .




योग हर रोग का इलाज है ,तीन महीने तक शीतली और शीतकारी 15 – 15 मिनट तक करें प्राणायाम करें ,देसी गाए का पांच साल पुराण घी मिल जाये तो उसकी २ २ बूंदे नाक के दोनों छिद्रों में डालें खून आना बंद हो जाता है ये नुस्खा सिर्फ एक बार आजमाना है

 

Leave a Comment