महाशिवरात्रि  क्‍या है रुद्राभिषेक -शास्त्रोक्त बिधि

महाशिवरात्रि क्‍या है रुद्राभिषेक -शास्त्रोक्त बिधि





महाशिवरात्रि क्‍या है रुद्राभिषेक -शास्त्रोक्त बिधि स्नातन धर्म में जन्म लेकर भी भगवान शिव की उपासना नहीं की तो हमारा जन्म लेना व्यर्थ है ,भारत का इतिहास इतना पुराण है जितना सूर्य चाँद और धरती ,कई बुद्धिजीवी 5000 – 7000 साल पहले की बात सोच नहीं सकते ,भारत की इस पावन भूमि पर कई अवतार उनमे से एक अवतार भगवान रूद्र का है कहते है रूद्र शिव जी का अवतार है ,अर्थात भगवान शिव ही अपने भगतो के दुःख दूर करने के लिए रूद्र रूप में अवतरित हुए थे .

निराकार ईश्वर एक है लेकिन वो समय- समय पर इस धरा पर अवतरित होकर ज्ञान का उपदेश देते हैं और अंधकार में भटक रहे लोगो को सही मार्ग दिखाते है , वही निराकार ब्रह्मा बन कर सृष्टि का निर्माण करते हैं विष्णु रूप में पालन करते हैं और शिव रूप में संहार करते हैं ,संहार से ये तातपर्य हैं वो भगतों के दुखो का नाश करते हैं दुष्टो का नाश करते ,

रूद्र भी भगवान् शिव का अवतार हैं , ,भग्तजन अपनी मनोकामना की पूर्ति के लिए भगवान रूद्र की उपासना करते हैं .शिवपुराण में रूद्र भगवान को प्रसन करने की कई विधियां मिल जाती हैं ,जिनमे से एक रुद्राभिषेक भी हैं.अभिषेक का अर्थ हैं ,अपने ईश्वर को कोई वस्तु भेंट करना ,या पवित्र करना ,कई ज्ञानी लोग स्नान करना भी कहते हैं लेकिन ये सत्य नहीं हैं ,

रूद्र अभिषेक का अर्थ हैं भगवान शिव को रुद्राक्ष भेट करना ,भगवान शिव को रुद्राक्ष बहुत प्रिय हैं इस लिए जो भी भगत जन शिव को रुद्राक्ष भेंट करता हैं ,रुद्राक्ष को अपने शरीर में धारण करता हैं ,प्रभु उसकी सभी मनोकामना पूरी करते हैं .भगवान शिव को रुद्राक्ष भेंट करने के बाद शिवलिंग पर बेलपत्र ,कच्ची लस्सी ,कमल के सफेद फूल , अर्पित करे .और शुक्लयजुर्वेदीय रुद्राष्टाध्यायी का जाप करें .

शिव पुराण अनुसार जिन बस्तु को शिवलिंग पर अभिषेक करने से जो जो फल की प्राप्ति होती है उनका संक्षिप्त विवरण दिया जा रहा ,आप इनको प्रयोग करके अपने जीवन को धन्य बना सकते है

दुखों से छुटकारा पाने के लिए

हर तरह के दुखो ,कष्टों से छुटकारा पाने के लिए भगवान शिव का जल से अभिषेक करना चाहिए ,ताम्बे के बर्तन में जल भर कर , ॐ नमः शिवाय का जाप करते हुए जल की पतली धरा शिव लिंग पर डालें ,भगवान शिव का मन ही मन ध्यान करते रहे .शिव स्नान करवाने के बाद .शिव पिंडी को किसी साफ़ वस्त्र से अच्छी तरह साफ़ करना जरुरी हैं.

महाशिवरात्रि का पूजन घर में किस प्रकार किया जाये

16 सोमबार व्रत तथा शिव  पूजन विधि

जब प्रभु श्री राम जी ने चलाये हनुमान पर अस्त्र शस्त्र

क्या भगवान नास्तिक को सजा देते है

  शिव आशीर्वाद पाने के लिए 

भगवान शिव का आशीर्वाद पाने के लिए अर्थात शिव को प्रसन करने के लिए शिवलिंग का दूध से अभिषेक करे दूध गए का होना चाहिए और कच्चा दूध ही प्रयोग करे .दूध से स्नान करने के लिए ताम्बे के बर्तन का प्रयोग न करे




 

कर्ज से मुक्ति के लिए

कर्ज मुक्ति के लिए और धन धन्य की वृद्धि के लिए शिव लिंग का गन्ने के रस से अभिषेक करें ,किसी पत्र में गन्ने का रस भर कर शिव पिंडी पर पतली धरा से स्नान कराएं .ॐ नील कंठाय नमः का जाप करते रहे

ग्रहबाधा नाश हेतु

कई बार वियक्ति को गृह बढ़ा परेशां करती हैं जो कभी कभी बहम का शिकार हो जाते हैं इस स्थिति में ,शिवलिंग का सरसों के तेल से अभिषेक करे इस से समस्त ग्रह दोषों का नाश होता हैं ,

उन्नति के लिए

कोई नया कार्य शुरू करने जा रहे हैं या कोई शुभ कार्य सम्पन करना चाहते हैं या किसी वयवस्य में उल्टी चाहते हैं तो शिव लिंग पर चने की दाल भेंट करे .इस से हर प्रकार की बढ़ा दूर होती हैं और आपकी तर्रकी के मार्ग खुलते हैं .

बुरी नजर से बचाव के लिए

अगर आपको लगता हैं के आपको किसी ने तंत्र बढ़ा से परेशान कर दिया हैं तो ,या आपको किसी ऊपरी साय का भय हैं तो भगबन शिवलिंग को काले टिल से अभिषेक करे ,ॐ रुद्राय नमः का जाप जरूर करें कम से कम एक माला रोज जाप करें .

पारिवारिक सुख-शांति हेतु

परिवार में वृद्धि के लिए संतान प्राप्ति के लिए आपको शिवलिंग का शहद और गंगा जल मिलाकर अभिषेक करना चाहिए , इस से भगवान रूद्र प्रसन हो कर .सुत, दारा और लक्ष्मी का वरदान देते हैं .

लम्बी आयु के लिए

समस्त भौतिक कष्टों के नाश के लिए या कोई लाइलाज बीमारी से छुटकारा पाने के लिए भगवान शिव के महामृत्युंजय मंत्र का जप करें तथा शिवलिंग पर शहद से अभिषेक करे .

आकर्षक  हेतु

मोहन .या आकर्षण के लिए ,भगवन को कुमकुम और केसर ,हल्दी से अभिषेक करें .ॐ नीलकंठाय नमः का जाप करते रहे .

रुद्राभिषेक के महत्व 

  1. बिधि पूर्वक रुद्राभिषेक करने से शिव जी बहुत जल्दी प्रसन हो जाते हैं ,
  2. से हमारे भौतिक कष्ट जैसे की कोई गंभीर बीमारी ठीक हो जाती हैं
  3. रुद्राभिषेक करने से हमारी सभी प्रकार की समस्या का नाश हो जाता हैं .
  4. रुद्राभिषेक करने से घर में सुख शांति तथा धन की वृद्धि होती हैं ,परिवार में वृद्धि होती हैं.




Leave a Comment